दरभंगा । शहर सहित पूरे जिले में दो दिवसीय कृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। घरों से लेकर मंदिरों में भगवान श्रीकृष्ण व राधा रानी की पूजा अर्चना की गई। व्रतियों ने उपवास कर रात के बारह बजे भगवानश्री कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया इसके बाद प्रसाद ग्रहण किया। शहर के मदारपुर चौक, भटियारीसराय, पंडासराय, लहेरियासराय आदि जगहों पर भव्य व आकर्षक पूजा पंडालों का निर्माण कर पूजा की गई। नंद घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की, मैया मोरी मैं नहीं माखन खायो आदि गीतों से पूरा वातावरण भक्तिमय बना रहा। पूजा को लेकर दो दिनों से फलों व मिठाइयों की जबर्दस्त बिक्री हुई।

कमतौल : रविवार की रात भगवान श्रीकृष्ण की पूजा अर्चना के बाद क्षेत्र के सार्वजनिक पूजा पंडालों का पट दर्शनार्थियों के लिए खोल दिया गया ।सोमवार की अहले सुबह से

ही क्षेत्र के कमतौल,अहियारी,अहिल्यास्थान,अहियारी गोट, लक्ष्मीपुर,ढ़ढि़या,मिल्की,टेकटार,ब्रहमपुर,रतनपुर आदि गांवों स्थित पूजा पंडालों में कन्हैया के दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी ।कृष्णभक्ति के गीतों ने पूरे के पूरे क्षेत्र को भक्तिमय बना डाला है।

तारडीह : क्षेत्र में बड़े बड़े ही धूमधाम के साथ जन्माष्टमी का पर्व मनाया गयाद्यजगह जगह भगवान कृष्ण के जन्म उत्सव को लेकर मेले का आयोजन हुआ।मंदिरों को भव्य एवं आकर्षक रूप में सजाया गया।लगमा बथई स्थित ब्रह्मचर्य कुटी आश्रम,भट्त्तोर,महथौर मोतनाजे में भक्तों की काफी भीड़ भगवान के दर्शन को ले उमड़ी रही।महथौर के बाडा चौक, बाबा भुवनेश्वर नाथ महादेव मंदिर परिसर में आकर्षक ढंग से पंडाल निर्माण कर भगवान की पूजा अर्चना की गई।मेले में बारिश के बावजूद लोगों की भीड़ उमड़ी रही

बेनीपुर : प्रखंड व नगर क्षेत्र में दो दिवसीय कृष्ण जन्माष्टमी पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा हैं। क्षेत्र के रमौली बहेड़ा, उफरदाहा, अधलुआम,मलौल,घोंघिया, महदैय,मकरमपुर सहित दर्जनों गांवों में हर्षोल्लास से लोग भगवान श्रीकृष्ण व राधा की मूर्ति की स्थापना कर पूजा अर्चना कर रहे हैं। इस अवसर पर जगह,जगह सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया है।बताते चलें कि रमौली गांव में रामजानकी मंदिर परिसर व इसी गांव के भुवनेश्वर नाथ महादेव मंदिर परिसर में करीब 80 वर्षों से कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जा रही है।बुजुर्गों का कहना है कि सच्चे मन से अराधना करने से मनोकामना अवश्य पूरी होती हैं । सभी पूजा स्थलों को आकर्षक ढंग से सजाया गया है।

Posted By: Jagran