दरभंगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को वीडियो कांफ्रें¨सग के माध्यम से आइसीडीएस की जिला कार्यक्रम पदाधिकारी अलका आम्रपाली, आंगनबाड़ी केंद्रों की पर्यवेक्षिकाओं,सेविकाओं व सहायिकाओं से मुखातिब हुए। संवाद का मुद्दा था सुरक्षित प्रसव व शत प्रतिशत प्रतिरक्षण। उन्होंने देश भर की सेविकाओं व सहायिकाओं को संबोधित करते हुए कहा कि आपकी जिम्मेदारी महती है। सकुशल जच्चा व बच्चा आपके हाथों में है। यह तभी संभव होगा जब गर्भवतियों के पोषण के साथ- साथ शत प्रतिशत प्रतिरक्षण हो। उन्होंने लेह,लद्दाख व मणिपुर राज्यों का उदाहरण देते हुए कहा कि इन राज्यों में पिछले सात वर्षों से प्रसव के दौरान एक भी जच्चा व बच्चा की मौत नहीं हुई है। जब सुदूर दुर्गम क्षेत्रों की ऐसी बेहतर स्थिति है तो अन्य जगहों पा यह क्यों नहीं संभव है। आप सेविका व सहायिका इस पर ध्यान दें। देश की कुशल व स्वस्थ भावी पीढ़ी के निर्माण का दायित्व आप पर है। आइए स्वस्थ व कुशल भावी पीढ़ी का निर्माण करें। प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रें¨सग के माध्यम से देश भर की आंगनबाड़ी सेविका तथा बाल विकास परियोजना पदाधिकारियों से संवाद किया। इस कार्यक्रम का प्रसारण जिले के सभी प्रखंड स्तरीय विज्ञान केंद्र एवं कुछ चयनित आंगनबाड़ी केंद्रों में भी हुआ। जिला स्तर पर एनआइसी के वीडियो कांफ्रें¨सग हॉल में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी अलका आम्रपाली समेत सभी सीडीपीओ एवं आंगनवाड़ी पर्यवेक्षिकाओं ने इस कार्यक्रम में भाग लिया एवं पोषण अभियान को और बेहतर तरीके से क्रियान्वित कराने के तौर-तरीकों को सीखा।

---------

मार्मिक व प्रेरणादायक सीख दे गए पीएम : आम्रपाली आइसीडीएस की जिला कार्यक्रम पदाधिकारी अलका आम्रपाली ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वस्थ व कुशल जच्चा- बच्चा के लिए मार्मिक व प्रेरणादायक सीख दे गए। अगर उनकी प्रेरणादायक बातों को अमलीजामा पहना दिया जाए तो हम लोग भी लेह, लद्दाख व मणिपुर बन सकते हैं। उन्होंने कहा कि स्वस्थ व कुशल जच्चा बच्चा के उद्देश्य से चालू माह को पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। जिला पदाधिकारी डॉ. चंद्रशेखर ¨सह के कुशल नेतृत्व में इसका संचालन हो रहा है। हमलोग शत प्रतिशत प्रतिरक्षण व पोषण पर ध्यान दे रहे हैं। निकट भविष्य में बेहतर परिणाम सामने आएंगे।

--------

सेविका व सहायिकाओं को सौगात दे गए पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने इस कार्यक्रम के माध्यम से देश की सेविका व सहायिकाओं को सौगात दे गए। उनके मानदेय में बढ़ोत्तरी की गई। सेविका का केंद्रांश प्रति माह 3000 से बढ़ाकर 4500 रुपये व सहायिका का केंद्रांश 1500 रुपये से बढ़ाकर 2250 रुपये दिए गए। उम्मीद व्यक्त की जा रही है कि राज्य सरकार में अपने हिस्से में इजाफा करेगी। फिलहाल सेवका व सहायिका को प्रति माह मानदेय के रूप में क्रमश: 3700 व 1875 रुपये मिलते हैं।

Posted By: Jagran