दरभंगा । जिला मुख्यालय से 70 किमी की दूरी पर दियारा में बसा कुशेश्वरस्थान पूर्वी प्रखंड का इन दिनों काफी बुरा हाल है। अधिकारी के नही रहने से सारे कर्मी गायब हो जाते हैं। लगातार मिल रही शिकायत के बाद जागरण टीम ने शनिवार को पूर्वी प्रखंड मुख्यालय के स्थिति से रू-ब-रू होने के लिए पहुंची। 10:05 बजे में प्रखंड कार्यालय में एक भी कर्मी मौजूद नहीं थे। प्रखंड व अंचल कार्यालय पूरी तरह सुनसान था। 10:17 बजे में प्रखंड के प्रधान लिपिक व चतुर्थवर्गीय कर्मी अपने कार्यालय पहुंचे और हाजरी बनाकर वापस बाजार चले गए। अंचल कार्यालय में एक चतुर्थवर्गीय कर्मी थे जो फाइल देख रहे थे। 10:30 बजे में आरटीपीएस काउंटर बंद पाई गई। दूर-दराज से आए लोग काउंटर खुलने के इंतजार में बैठे हुए थे। इटहर पंचायत के विशुनिया गांव की रिकू देवी अपने एक वर्ष के बच्चे के साथ आरटीपीएस के पास खड़ी थी। पूछे जाने पर बताया कि चारो तरफ बाढ़ का पानी है। नाव से बाजार आना जाना पड़ता है। राशनकार्ड के लिए कई दिनों से यहां चक्कर लगा रहे हैं। पर कोई सुनता ही नहीं। छोटी बच्ची को लेकर सुबह गांव से चलते हैं ताकि जल्दी मेरा काम हो जाए और हम सही समय पर अपने घर लौट सके। 10:38 बजे लिपिक भोला राय अपने कार्यालय पहुंचे, बताया कि क्या करें घर से यहां आते-आते पांच दस मिनट लेट हो जाता है। वैसे मैं कोई अकेला नही यहां सभी का यही हाल है। 10:42 बजे मनरेगा कार्यालय में भी एक भी कर्मी मौजूद नही थे। नाम नही छापने के शर्त पर प्रखंड के एक कर्मी ने बताया कि जब-जब बीडीओ साहब मीटिग या किसी कार्य से यहां से जाते हैं तो सभी कर्मी अपनी मर्जी के हिसाब से कार्य करते हैं। अर्थात आने और जाने का कोई समय नहीं रहता है। बीडीओ अशोक कुमार जिज्ञासु ने बताया कि मामला मेरे संज्ञान में आया है। लापरवाह कर्मियों पर कार्रवाई की जाएगी।

-----------------------

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप