बिरौल। सात निश्चय योजना में हर घर नल का जल पर जिलाधिकारी डॉ. चन्द्रशेखर ¨सह गंभीर हैं। सुपौल बाजार स्थित मध्य विद्यालय के सभा कक्ष में अधिकारियों के साथ गुरुवार की शाम बैठक की। बैठक में आवश्यक निर्देश दिए। कहा कि मुख्यमंत्री के सात निश्चय योजना में गड़बड़ी करने वालों पर कार्रवाई होगी। गौड़ाबौराम प्रखंड के सभी तेरह पंचायतों में सात निश्चय योजना के तहत चल रहे नल-जल और पक्की नाली-गली आदि योजनाओं कीं जांच कराई गई। प्रत्येक पंचायत के लिए जिला स्तरीय तीन सदस्यों की जांच टीम गठन किया गया था, जो अपनी जांच रिपोर्ट डीएम को सौंपी है जिसमें कई स्तर पर अनियमितता मिली है। डीएम ने इसे गंभीरता से लिया है तथा दोषी पर कार्रवाई का संकेत दिया है। गौड़ाबौराम प्रखंड की कई पंचायतों में नल-जल योजना के तहत पाइप बिछाया गया है लेकिन पानी सप्लाई नहीं है। इन पंचायत के कार्य एजेंसी को एक सप्ताह का समय दिया गया है। अगर इस अवधि में पानी सप्लाई नहीं हुआ तो जिम्मेदार लोग पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। प्रखंड के कुछ वार्ड में मुखिया एवं पंचायत सचिवों द्वारा राशि स्थानांतरित नहीं की गई है। वैसे पंचायत सचिवों को अविलंब राशि स्थानांतरित करने को कह गया। कार्य में शिथिलता बरतने के कारण बीडीओ लक्ष्मण कुमार को डीएम ने कड़ी फटकार लगाई। डीएम ने कहा कि सभी पंचायतों में मिले लक्ष्य के अनुकूल हर घर नल का जल योजना अक्टूबर माह तक पूरा कर लें।

बैठक में डीसीएलआर रामदुलार राम ने बताया कि जांच के दौरान आसी पंचायत में आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 64 बंद मिला।आंगनबाड़ी सेविका शीला कुमारी के विरुद्ध कार्रवाई करने का निर्देश सीडीपीओ को दिया। कस्तूरबा बालिका विद्यालय में 3 शिक्षक की अनुपस्थिति रिपोर्ट पर जिला शिक्षा पदाधिकारी डॉ. महेश प्रसाद ¨सह को अनुपस्थित शिक्षकों के विरुद्ध कार्रवाई करने को कहा गया। बैठक में डीडीसी कारी प्रसाद महतो, सहायक समाहर्ता विवेक रंजन, जिला पंचायती राज पदाधिकारी शत्रुधन कामती, जिला प्रबंधक राज्य खाद्य निगम अभिनव भास्कर, जिला योजना पदाधिकारी कमलेश्वर प्रसाद, एसडीओ ब्रजेश लाल, सहायक अभियंता रत्नेश प्रसाद ¨सह, पंचायत सचिव रामाशीष यादव,मुखिया ज्योति प्रसाद ¨सह, शिव शंकर झा, वार्ड संघ के प्रखंड अध्यक्ष राजकुमार झा आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran