दरभंगा । सोनकी ओपी क्षेत्र के शाहजादपुर में शनिवार की शाम दहेज के लिए नवविवाहिता की हत्या करने और साक्ष्य छुपाने के लिए शव को जला देने के मामले की जांच सोमवार को एफएसएल की टीम ने की। टीम ने घटनास्थल से नमूना संग्रहित किया। एफएसएल की टीम के साथ सोनकी ओपी अध्यक्ष धर्मपाल भी उपस्थित रहे। एफएसएल के पदाधिकारी ने बताया कि संग्रहित नमूने को जांच के लिए भेजा जाएगा। इसमें देखा जाएगा कि जलाने में किसी ज्वलनशील पदार्थ का तो उपयोग नहीं किया गया था।

बताते हैं कि सदर थाने के सोनकी ओपी क्षेत्र के शाहजादपुर गांव में नवविवाहिता निभा कुमारी की ससुरालियों ने गर्दन दबाकर हत्या कर दी। फिर इसे हादसे का रूप देने के लिए घर में आग लगाकर शव को जलाने की कोशिश की। बुरी तरह से जले शव को पुलिस ने बरामद किया। इस बाबत केवटी थाने के बलिया गांव निवासी निभा की मां रेखा देवी के बयान पर थाने में कांड अंकित किया गया था।पुलिस ने मां के फर्द बयान पर पति रमनजी मंडल, ससुर चंदेश्वर मंडल, चाचा विशेश्वर मंडल एवं सास सीता देवी को आरोपित किया। दो को जेल भेज दिया। जबकि

ससुरालियों का कहना था कि शार्ट सर्किट से लगी आग से निभा की मौत हुई। अब एफएसएल टीम की जांच में मामला स्पष्ट होगा।

Posted By: Jagran