दरभंगा। मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के तहत हर-घर,नल-जल योजना के बचे अपूर्ण काम को 31 मार्च तक हर हाल में पूरा करने का निर्देश के बाद डेडलाइन से 15 दिन पूर्व जिले में 97 फीसद काम पूरा करने का दावा किया जा रहा है। जबकि, हकीकत इससे कोसों दूर है। जिले के कई प्रखंडों में नल-जल योजना का हाल बेहाल है। लोगों का कहना है कि यदि इसकी जांच कराई जाए जो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। कहीं भी सही ढंग से नल-जल योजना का काम पूरा नहीं किया गया है। लोगों को शुद्ध पेयजल नसीब नहीं हो रहा है।

आंकड़ों पर गौर करें तो जिले के कुल 18 प्रखंडों में कुल 4474 वार्ड है। इनमें से 4019 वार्डों में काम होने की बात कही जा रही है। जबकि, 124 वार्डों में काम चालू होने का जिक्र किया गया है। रिपोर्ट में इस बात का जिक्र किया गया है कि कुल 4474 वार्डों में से कुल 322 वार्डों में पीएचईडी विभाग को काम करना है। कई प्रखंड में तो सौ फीसद काम पूरा होने का दावा किया गया है। जिले के 18 प्रखंडों में से गौड़ाबौराम, घनश्यामपुर, अलीनगर और कुशेश्वरस्थान पूर्वी प्रखंड में सौ फीसद काम पूरा कर लेने का दावा किया जा रहा है। जिला प्रशासन के पास 15 मार्च तक का जो आंकड़ा है, उसके मुताबिक गौड़ाबौराम के कुल 174 वार्डों में काम पूरा कर लेने का दावा किया जा रहा है।

वहीं, घनश्यामपुर प्रखंड के 169 वार्डों में से 163 वार्डों में काम पूरा कर लेने की बात कही गई है। शेष छह वार्ड जहां काम पूरा नहीं हो सका है, वह पीएचईडी विभाग को करना है। इसी तरह, अलीनगर प्रखंड के 176 वार्डों में से 162 वार्डों में काम पूरा हो चुका है। बचे हुए वार्डाें का काम पीएचईडी विभाग के हवाले है। कुशेश्वरस्थान पूर्वी प्रखंड के 134 वार्डों में से 122 वार्डों में काम पूरा कर लिए जाने का दावा किया जा रहा है। शेष बचे 12 वार्डों में पीएचईडी विभाग को काम करना है। जिन वार्डों में काम चालू है उनमें कुशेश्वस्थान के तीन, बिरौल के पांच, सिंहवाड़ा के सात, जाले के सात, हायाघाट के चार, केवटी के आठ, बहादुरपुर के सात, मनीगाछी के आठ, हनुमाननगर के छह, बहेड़ी के 18, किरतपुर के सात, बेनीपुर के 16 व दरभंगा सदर के 28 वार्ड शामिल हैं।