पटना [जेएनएन]। बेरोजगारी हटाओ-आरक्षण बढ़ाओ यात्रा के पहले चरण में तेजस्‍वी यादव दोपहर में दरभंगा पहुंचे। दरभंगा में पार्टी नेताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। तेजस्वी के पहुंचने से पहले ही वहां राजद के वरीय नेता मंच पर पहुंचे हुए थे। वरीय नेताओं में प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे, पूर्व मंत्री अब्दुल बारी ​सिद्दीकी, पूर्व सांसद समेत अन्य दिग्गज शामिल थे। 

सभा को संबोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि देश में संविधान खत्म करने की साजिश की जा रही है। भाजपा नागपुरिया कानून लागू करना चाह रही है। लोहिया के पद चिह्नों पर चलने वाले आज मोदी के लोग बन गए हैं। लालू यादव ने अंतिम पायदान में बैठे लोगों को सीने से लगाया। यही कारण है कि लालू बीजेपी की आंखों में खटक रहे हैं। उन्हें फंसा कर जेल भेज दिया गया और नीतीश कुमार इस प्लानिंग में शामिल थे। 

 वे गुरुवार को दरभंगा के लोआम खेल मैदान में बेरोजगारी हटाओ, आरक्षण बढ़ाओ यात्रा की शुरुआत के मौके पर सभा को संबोधित कर रहे थे। तेजस्वी ने कहा कि लालू कभी सांप्रदायिक शक्तियों के सामने घुटने नहीं टेके। विचारधारा से कभी समझौता नहीं किया।

उन्होंने कहा कि पिछले 4 सालों के दौरान कितने बेरोजगारों को नौकरी मिली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रत्येक वर्ष दो करोड़ रोजगार देने का वादा किया था। प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने देश की जनता को कहा पकौड़ा बेचो। अगर हर साल 2 करोड़ लोग पकौड़ा बनाएंगे तो पकौड़ा खाएगा कौन? कहां कि नौजवान देश है हमारा और बिहार नौजवान राज्य है। लेकिन बिहार से ही सबसे ज्यादा पलायन हुआ है।

नीतीश के राज में एक नौकरी नहीं मिली। तेजस्वी ने कहा कि सदियों से समाज में वर्ण व्यवस्था लागू थी। गरीबों को कुएं से पानी लेने का अधिकार नहीं था। ना ही ऊंची जाति के लोगों के सामने बैठने का अधिकार था। अगर आरक्षण व्यवस्था नहीं बढ़ी तो फिर से वही समय आ जाएगा। कहा कि हम किसी के खिलाफ नहीं हैं। लोगों को अधिकार मिले, इसीलिए नया यात्रा पर निकले हुए हैं।

अगर हम बेईमान होते और बीजेपी के सामने घुटने टेक देते तो आज बिहार के मुख्यमंत्री होते। अगर हमारे मन में लालच होता तो हम पर कोई केस नहीं होता। नीतीश की कोई विचारधारा नहीं है। कुर्सी के चक्कर में कुछ भी कर सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने अभी नीतीश कुमार को जमकर फटकार लगाई है। सीबीआइ को भी फटकार लगाई है।  नीतीश जी चेला बन कर मोदी और भागवत की गोद में बैठ गए। बिहार में दिनदहाड़े अपराध बढ़ रहे हैं। आजकल पुलिस का एनकाउंटर हो रहा है। नीतीश कुमार को बिहार की चिंता नहीं है केवल अपनी छवि की चिंता है।

दरभंगा के जीवछ घाट स्थित लोआम खेल मैदान में आयोजित सभा स्थल पर राजद कार्यकर्ताओं में गजब का उत्साह देखने को मिल रहा है। कुछ कार्यकर्ता इतने उत्साहित हैं कि माथे पर लालटेन लेकर डांस करते नजर आए। अच्छी खासी संख्या में महिलाएं भी पहुंची हुई हैं। 

बता दें कि दरभंगा लोकसभा क्षेत्र निलंबित भाजपा सांसद कीर्ति झा आजाद का है। खास बात कि कीर्ति झा आजाद का रूझान कांग्रेस की ओर है। ऐसे में तेजस्वी की इस यात्रा पर महागठबंधन में शामिल घटक दलों की नजर लगी हुई है। 

वहीं तीन दिवसीय यात्रा की दूसरी सभा दूसरी सभा आठ फरवरी को सुपौल में होगी। खास बात कि यह सीट पहले से ही कांग्रेस के कब्जे में है। यहां की सांसद रंजीत रंजन हैं। यह भी जगजाहिर है कि रंजीत रंजन के पति मधेपुरा सांसद पप्पू यादव से तेजस्वी की अदावत पुरानी है। पप्‍पू राजद के टिकट पर ही लोकसभा तक पहुंचे थे। बाद में उन्‍होंने अपना रास्‍ता अलग कर लिया। सुपौल में तेजस्वी की जनसभा राघोपुर के पिपराही में होगी। 

इसके बाद तेजस्वी की तीसरी सभा भागलपुर में होगी। वे नौ फरवरी को भागलपुर पहुंचेंगे। इसे लेकर भागलपुर के राजद कार्यकर्ताओं में भी काफी उत्‍साह है। भागलपुर लोकसभा सीट पर फिलहाल राजद का ही कब्‍जा है। बुलो मंडल वहां के सांसद हैं। इसके अलावा उसी कमिश्‍नरी में शामिल बांका लोकसभा सीट पर भी राजद का ही कब्‍जा है। ऐसे में भागलपुर की सभा को लेकर राजद ने पुरजोर तैयारी कर रखी है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप