दरभंगा । सांसद कीर्ति आजाद ने कहा कि कांग्रेस से उनके परिवार का काफी पुराना नाता है। वे अपने पिता भागवत झा आजाद के साथ पहले भी दिल्ली के 24 अकबर रोड जाया करते थे। मिथिलांचल में फिर से कांग्रेस के पुराने जनाधार को वापस लाने का प्रयास करेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते कहा कि पिछले पांच वर्षों में मोदी ने केवल जुमलेबाजी ही की। देश की जनता से किया गया कोई भी वादा पूरा नहीं किया। न तो युवाओं को प्रतिवर्ष दो करोड़ रोजगार मिले, न ही किसी के खाते में 15 लाख रुपये आए। यहां तक की पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों की शहादत पर जब पूरा देश सड़कों पर उतरा तो मोदी शिलान्यास कार्यक्रम में व्यस्त थे। कहां गई मोदी की वे बातें जो वे यूपीए के शासनकाल में कहा करते थे। एक सिर के बदले दस सिर। कहा कि उनका मन भाजपा से उचट गया था। भ्रष्टाचार के मुद्दे पर बीजेपी ने उनकी पीठ में छुरा घोंपा। न खाऊंगा, न खाने दूंगा महज जुमला साबित हुई। लुटेरे देश से फरार हो गए। बीजेपी के मुखौटे के पीछे का घिनौना चेहरा सामने आ गया। मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले पर कीर्ति ने कहा कि कोर्ट ने इस मामले में सीबीआइ को सीएम की जांच का आदेश दिया है। सीएम को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए। कहा कि मधुबनी के परिहार सेवा की जांच होनी चाहिए। वहां से गायब 14 लड़कियां ही इस केस की कड़ी है। कई लोगों के नाम उजागर होंगे। आजाद ने कहा कि भाजपा भावनाओं को भड़का कर सत्ता में आती रही है। उसकी कोई अपनी नीति नहीं है। पहली बार सुप्रीम कोर्ट सीबीआइ और आरबीआइ की स्वतंत्रता सवालों के घेरे में है। देश की आजादी के बाद पहली बार चार जजों ने प्रेस कांफ्रेंस कर दखल का आरोप लगाया। रिजर्व बैंक से सरकार 3.5 लाख करोड़ कैपिटल रिजर्व से रुपये मांग रही थी। 61 वर्षों में पहली बार किसी गवर्नर ने यूं इस्तीफा दिया है। कहा कि पाकिस्तान के साथ सभी प्रकार के रिश्ते बंद कर देने चाहिए। पार्टी का जो भी फैसला होगा मानूंगा

कीर्ति ने चुनाव लड़ने के सवाल का जबाव देते कहा कि महागठबंधन की बैठक में यह निर्णय लिया जाएगा कि कौन कहां से चुनाव लड़ेगा। कहा कि मैंने पार्टी को अपने फैसले से अवगत करा दिया है। पार्टी का जो भी फैसला होगा, वैसा करुंगा। यदि महागठबंधन की ओर से किसी और को टिकट मिलता है तो उसकी मदद करुंगा। पुराने कांग्रेसी परिवार फिर से एक हुए : पूनम

सांसद कीर्ति की पत्नी कांग्रेस नेता पूनम आजाद ने कहा कि कांग्रेस संस्कारों वाली पार्टी है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी काफी संयमित भाषा का प्रयोग करते हैं। पीएम पर कटाक्ष करते कहा कि उनकी भाषा अमर्यादित है। कीर्ति के कांग्रेस में शामिल होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते कहा कि न केवल कीर्ति बल्कि बिहार के पुराने कांग्रेसी घराने के लोग आज एक साथ कांग्रेस में शामिल हुए है। कहा कि पूर्व मंत्री नागेंद्र झा आजाद के पुत्र मदन मोहन झा बिहार प्रदेश कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष है। जबकि ललित नारायण मिश्र के परिवार के ऋषि मिश्रा ने भी जदयू छोड़ कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। इससे पूरे बिहार में अच्छा संदेश गया है। इसका असर आगामी चुनाव में दिखेगा।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप