दरभंगा। डॉ. रंजना झा नागेंद्र झा महिला महाविद्यालय में ¨हदी की विभागाध्यक्ष हैं। कहती हैं श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मानव के जीवन में नया उल्लास लेकर आता है। घर-घर में उत्सवी माहौल हो जाता है। व्रत करने से मन निर्मल हो जाता है। व्रत की अवस्था में व्यक्ति अन्न दोष से बच जाता है। ऐसे में सुविचार के साथ श्रीकृष्ण का दर्शन करने से काफी लाभ होता है। जंतु विज्ञान की सहायक प्राचार्य डॉ. नीलम मिश्रा कहती हैं श्रीकृष्ण जन्मोत्सव को लेकर परिवार में उत्साह बना हुआ है। व्रत के साथ पूजा विधि पूर्वक करने के लिए सामग्री भी खरीद कर ली गई है। जन्मोत्सव दिन से लेकर षष्टी दिन तक बधाई गीत गुंजती रहती है। ----------------------------

जयंती व्रत आज ,कृष्णाष्टमी व्रत कल :

जासं, दरभंगा : कृष्ण जन्मोत्सव पर प्रत्येक साल भक्तगण अपनी भावना के अनुकूल व्रत करते हैं। का¨सदसंविवि के वेद विभागाध्यक्ष डॉ. विदेश्वर झा कहते हैं कि रविवार को 5.16 मिनट के बाद अष्टमी तिथि पड़ेगी। सोमवार को 3.37 मिनट तक अष्टमी है। मिथिला में कृष्ण भक्त भावना के हिसाब से व्रत भी करते हैं। रविवार को जयंती व्रत होगा। जिसका पारन अगले दिन सोमवार को होगा। जबकि, कृष्णाष्टमी व्रत सोमवार को होगा। गृहस्थ परिवार के लोग साधारणतया जयंती व्रत करते हैं। जबकि, वैष्णवगण कृष्णाष्टमी व्रत करते हैं। रविवार की निशा रात्रि में कंहैया का प्राकट्य होगा। भक्तगण षैडशोपचार पूजा करेंगे।

Posted By: Jagran