दरभंगा । ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय में छात्र संघ चुनाव के दूसरे चरण की तैयारी का जायजा लेने के लिए मंगलवार को विवि के छात्र संघ चुनाव कोर कमेटी के सदस्यों ने भी वाणिज्य विभाग परिसर का मुआयना किया और समीक्षा की। विवि में पहला चुनाव स्थापना के पांच वर्षों के बाद 1977 में हुए थे। दूसरा चुनाव इसके तीन साल बाद 1980 में हुए। तीसरा चुनाव होने में 38 साल लग गए। 9 मार्च 2018 को शैक्षणिक सत्र 2017-18 के लिए छात्र संघ का चुनाव हुआ। नौ माह बाद सत्र 2018-19 के लिए चौथे छात्र संघ का मतदान होने वाला है। मतदान व मतगणना को लेकर बुधवार को नरगौना के सभी पीजी विभाग बंद रहेंगे। इन विभागों में होने वाली परीक्षाएं भी स्थगित रहेगी। डीएसडब्ल्यू डॉ. भोला चौरसिया ने बताया कि जंतुविज्ञान, बायोटेक्नोलॉजी व होमसाइंस विभाग में होने वाली प्रायोगिक परीक्षा को स्थगित कर दी गई है।

मैदान में डटे हैं छात्र संगठन : चुनाव से विवि पैनल के पांच पदों के प्रतिनिधि निर्वाचित होंगे। इन पदों के लिए कुल 21 प्रत्याशी चुनाव मैदान में जोर आजमा रहे हैं। हर पद पर कांटे की टक्कर है। अध्यक्ष पद के लिए जहां पांच प्रत्याशी दांव लगाए बैठे हैं, वहीं उपाध्यक्ष, महासचिव, संयुक्त सचिव व कोषाध्यक्ष पद के लिए चार-चार प्रत्याशी जीत का प्रयास कर रहे हैं। बता दें कि चुनाव के लिए कुल 22 नामांकन हुए थे जिसमें से महासचिव के पद का एक नामांकन वापस लिया जा चुका है। चुनाव में अभाविप, एमएसयू, छात्र जदयू के अलावा पांच संगठनों का गठबंधन लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट मैदान में डटा हुआ है।

पदवार अलग-अलग रंग के बैलेट तैयार : विवि पैनल के चुनाव में केवल काउंसिल मेंबर ही मतदान कर सकेंगे। इनकी संख्या 210 है। इनमें दरभंगा के 53, मधुबनी के 51, समस्तीपुर के 56, बेगूसराय के 46 व विवि संकायों के 4 काउंसिल मेंबर शामिल हैं। सभी पदों के लिए अलग-अलग रंग के बैलेट यानि की मतपत्र बनवाए गए हैं। अध्यक्ष पद का बैलेट नारंगी रंग का होगा, वहीं उपाध्यक्ष पद का गुलाबी, महासचिव का पीला, संयुक्त सचिव का ब्लू व कोषाध्यक्ष का बैलेट खाकी रंग का बनवाया गया है।

बूथ पर रहेंगे प्रत्याशी या प्रतिनिधि :

बूथ पर पो¨लग एजेंट के रूप में या तो प्रत्याशी खुद रहेंगे या उनके प्रतिनिधि। किसी भी स्थिति में दो लोगों को अनुमति नहीं दी जाएगी। यानी की पांच पदों के चुनाव के दौरान केवल पांच लोग ही पो¨लग एजेंट की भूमिका में रहेंगे। चाहे वे प्रत्याशी होंगे या फिर उनके प्रतिनिधि।

मतदान व मतगणना कर्मी नियुक्त :

चुनाव के लिए मतदान व मतगणना कर्मी की नियुक्ति कर दी गई है। मतदान के लिए पीठासीन पदाधिकारी के अलावा पांचों पदों के लिए मतदान कर्मी तैनात रहेंगे। मतदान समाप्त होने के बाद मतगणना के लिए कर्मियों की अलग टीम होगी। इसके अलावा मतदान व मतगणना के लिए पांच पदाधिकारियों की टीम को रिजर्व रखा जाएगा। चुनाव के दौरान बूथ पर मिल्लत कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. रहमतुल्लाह व पीजी अंग्रेजी विभागाध्यक्ष डॉ. अरूणिमा ¨सहा ऑब्जर्वर के रूप में तैनात रहेंगे। इसके अलावा सीएम साइंस कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. प्रेम कुमार प्रसाद व मारवाड़ी कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. एससी गुप्ता को रिजर्व ऑबजर्वर के रूप में रखा गया है। मतपेटी की सुरक्षा के लिए भी पदाधिकारी नियुक्त किए गए हैं।

चुनाव को लेकर सीइओ ने जारी किए कई निर्देश : मतदान व मतगणना को लेकर कई निर्देश जारी कर दिए हैं। इसके अनुसार मतगणना के पूर्व प्रत्याशी या प्रतिनिधि के मतपेटी के सील से आश्वस्त होने के बाद ही वोटों की गिनती शुरू होगी। मुहर का दो तिहाई या उससे अधिक जिस उम्मीदवार की ओर झुका होगा, वह मत उसके खाते में माना जाएगा। मुहर पूरी तरह जमा हो या अधूरा हो मान्य होगा। अभ्यर्थी या उसके प्रतिनिधि के लिखित आग्रह पर पुनर्मतगणना की अनुमति केवल एक बार होगी। मतगणना के बाद किसी प्रत्याशी के गणना पत्र पर हस्ताक्षर से इंकार करने पर मतगणना पदाधिकारी का प्रमाण मान्य होगा। मतपत्र पर निर्धारित मुहर के अतिरिक्त कोई भी चिन्ह रहने पर मतपत्र अवैध होगा। मतगणना के समय उम्मीदवार या उनके प्रतिनिधि उपस्थित रहेंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप