दरभंगा। प्राथमिक शिक्षकों की बेमियादी हड़ताल की घोषणा के बीच सोमवार को मैट्रिक की परीक्षा जिले के सभी 47 केंद्रों पर शांतिपूर्वक शुरू हो गई। प्राथमिक शिक्षकों के हड़ताल के आह्वान का परीक्षा ड्यूटी करने वाले शिक्षकों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। सभी शिक्षकों ने सुबह सवेरे केंद्रों पर पहुंचकर अपनी अपनी जिम्मेदारियां संभाल ली। हड़ताल की घोषणा से परेशान पदाधिकारियों ने भी सघन जांच के बाद ही परीक्षार्थियों को परीक्षा कक्ष में प्रवेश की अनुमति दी। यह पहली बार था कि तीन लेयर में छात्र-छात्राओं की जांच की गई। प्रथम पाली में दरभंगा शहर के अलावा बेनीपुर व बिरौल अनुमंडल मुख्यालय के परीक्षा केंद्रों पर 664 और द्वितीय पाली में 579 परीक्षार्थी नहीं आए। जिला शिक्षा पदाधिकारी डॉ. महेश प्रसाद सिंह ने दावा किया है कि परीक्षा संचालन में हड़ताल की घोषणा वाले प्राथमिक शिक्षकों का भी हरसंभव सहयोग मिला। कहीं से किसी प्रकार किसी शिक्षक ने परीक्षा बाधित करने का प्रयास नहीं किया। जाम की रही स्थिति

पहला दिन होने के कारण सुबह सवेरे से ही परीक्षा केंद्रों पर परीक्षार्थियों के साथ-साथ उनके अभिभावकों की भीड़ नजर आने लगी थी। वीआइपी रोड में लगभग एक दर्जन परीक्षा केंद्र होने के कारण सुबह आठ बजे से ही जाम की समस्या उत्पन्न हो गई थी। एमएल एकेडमी के पास तो पूरे दिन चींटी की रफ्तार से यातायात रेंगता रहा। लेकिन, सबसे अधिक समस्या नाका नंबर पांच पर हुई, जहां चारों ओर से परीक्षार्थियों की भीड़ दोपहर में आने और जाने के कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। हालांकि, प्रशासन ने अतिरिक्त यातायात आरक्षी बल की भी व्यवस्था की थी। लेकिन, भीड़ उनके नियंत्रण के बाहर हो गई थी। समग्र शिक्षा अभियान के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी संजय कुमार देव कन्हैया ने जिला स्कूल सहित कई परीक्षा केंद्रों के निरीक्षण के बाद दावा किया कि शहर में लगभग 36 हजार परीक्षार्थी शांतिपूर्वक परीक्षा दे रहे हैं। कहीं से किसी प्रकार के कदाचार की कोई सूचना नहीं है। उन्होंने अभिभावकों को भी धन्यवाद दिया जिनके सहयोग से शांतिपूर्वक परीक्षा का संचालन किया जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस