दरभंगा। प्राथमिक शिक्षकों के हड़ताल की चेतावनी के बावजूद जिला प्रशासन ने सोमवार से प्रारंभ होने वाली मैट्रिक परीक्षा के कदाचार मुक्त संचालन की सभी तैयारियां पूरी कर ली है। एक बेंच पर दो परीक्षार्थी को बैठने की व्यवस्था के साथ ही 47 परीक्षा केंद्रों में मात्र एक परीक्षा केंद्र ऐसा है जहां शामियाना में भी परीक्षा लेने की व्यवस्था की गई है। जिला शिक्षा पदाधिकारी डॉ. महेश प्रसाद सिंह रविवार होने के बावजूद एमएल एकेडमी स्थित नियंत्रण केंद्र में अपने जिला कार्यक्रम पदाधिकारी व अन्य कर्मियों के साथ वीक्षकों की तैनाती एवं अन्य सुविधाओं का भौतिक एवं टेलिफोनिक सत्यापन करते रहे। कहा कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति का निर्देश है कि 25 परीक्षार्थी पर एक वीक्षक की तैनाती की जाए। लेकिन, हम लोगों ने प्राथमिक शिक्षकों की हड़ताल की चेतावनी को देखते हुए अतिरिक्त सावधानी बरती है। इसके कारण आज हम लोग इस स्थिति में हैं कि यदि 12 परीक्षार्थी पर एक वीक्षक तैनात करना पड़े तो वह भी हम कर लेंगे। सभी 47 परीक्षा केंद्रों पर 10 फीसद अतिरिक्त शिक्षकों को तैनात कर दिया गया है। इसमें टोला सेवक, तालिमी मरकज के अलावा संस्कृत विद्यालय एवं मदरसा के शिक्षक भी शामिल है। उन्होंने उम्मीद जताई कि शिक्षक संगठन भी अपने-अपने बच्चे के भविष्य को देखते हुए परीक्षा संचालन में सहयोग करेंगे। जिला प्रशासन को आशा है कि कोई भी शिक्षक अपनी गरिमा पर आंच नहीं आने देगा। सभी केंद्र पर सीसीटीवी लगाए गए हैं। परीक्षार्थियों के सघन जांच की व्यवस्था कर ली गई है। छात्राओं की जांच के लिए महिला शिक्षकों को तैनात किया गया है। परीक्षा केंद्रों के प्रवेश द्वार पर ही अलग से एक चेकिग कक्ष स्थापित करने का निर्देश दिया गया है। छात्राओं को उसी के अंदर ले जाकर उनकी जांच करनी है।

-------------

निजी लॉज हुए हाउसफुल :

मुगलपुरा, भटियारीसराय, उर्दू, करमगंज, कादीराबाद आदि मुहल्लों के निजी लॉज में हाउसफुल का बोर्ड कई जगह टंगा हुआ मिला। कहीं-कहीं छात्रों को महंगे बेड से गुजारा करना पड़ रहा है। लॉज मालिक दो से तीन गुणा अधिक किराया वसूलने पर आमादा दिखे। नाका पांच से पश्चिम लॉज खोज रहे बेनीपुर के परीक्षार्थी अशोक कुमार ने बताया कि एक सप्ताह के लिए एक हजार रुपये मांग रहे हैं। वह भी एसबेस्टस के रूम में एक चौकी रहने के लिए दे रहे हैं।

-----------

चौपहिया वाहनों का अकाल :

अनुमंडल से बाहर छात्रों का परीक्षा केंद्र निर्धारित होने के कारण वाहनों की डिमांड बढ़ गई है। बहुत से छात्र प्रतिदिन बेनीपुर या बिरौल जाकर परीक्षा देने की फिराक में है। पांच छात्र मिलकर एक बोलेरो या स्कॉर्पियो कर रहे हैं। उसी पर चढ़कर सभी जाने की सोच रहे हैं। इसके कारण वाहन मालिकों की चांदी हो गई है।

--------------

परीक्षा केंद्र जाने से पूर्व करें चेक :

परीक्षा केंद्र पर निकलने से पहले अपनी जेब को चेक कर लें कि उसमें कोई अनावश्यक रूप से कागज तो नहीं रह गया है। इसके कारण आप परेशान हो सकते हैं। प्रवेश पत्र और दो कलम अवश्य रखें। अपने आवास से इतना पहले निकले की परीक्षा केंद्र पर निर्धारित समय से आधा घंटा पहले अवश्य पहुंच जाएं। पता नहीं कहां जाम हो और किसी कारणवश आपको पहुंचने में देर हो जाए। पहला दिन है, इसलिए समय से पूर्व पहुंचना ही लाभकारी होगा।

----------

जेब में रखें खुले पैसे :

परीक्षा केंद्र रवाना होने से पहले अपनी जेब में खुले पैसे निश्चित रूप से रख लें। मोबाइल यदि आपके जेब में हो तो उसे निकालकर घर पर ही रख दें। क्योंकि परीक्षा केंद्र में मोबाइल ले जाना मना है। वहां भी आपको बाहर ही रखवा दिया जाएगा।

----------------------

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस