दरभंगा। जाप संरक्षक व पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने कहा है कि सीएए, एनपीआर और एनआरसी देश की गंगा-जमुनी तहजीब पर खतरा है। वे मंगलवार को केवटी प्रखंड के रैयाम चीनी मिल परिसर में सीएए, एनआरपी और एनआरसी के खिलाफ आयोजित जनसभा में बोल रहे थे। कहा- सरकार संविधान से छेड़छाड़ कर रही है। इसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इससे नागरिकता खतरे में पड़ गई है। यह जन विरोधी है। मोदी सरकार भय और नफरत का माहौल बना चुकी है। यह आंदोलन किसी पार्टी का नहीं, बल्कि यह संविधान को बचाने की लड़ाई है। कहा कि देश में 15 करोड़ लोगों के पास घर नहीं है। जब उनके पास घर नहीं, तो वे अपने आवास का प्रमाण पत्र कहां से लाएंगे। महंगाई, बेरोजगारी, दुष्कर्म और कमजोर वर्ग के उत्पीड़न के बहुत सारे मामले हैं। इन्हें रोकने में सरकार नाकाम है। सरकार इस निर्णय को जब तक नहीं बदलेगी, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। जनसभा की शुरुआत बच्ची फातिमा शेख द्वारा राष्ट्रगान करने के साथ हुआ। सभा की अध्यक्षता आमीर सोहैल निराले ने की। संचालन अखिल भारतीय मित्र पार्टी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष मो. इम्तियाज भोला ने की। सभा को सपा अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष कुशेश्वर महतो, राजद जिला अध्यक्ष रामनरेश यादव, जाप के जिला अध्यक्ष डॉ. अब्दुस सलाम, जिपस शमीउल्लाह खां शमीम, शादाब अंजूम, एएपी मधुबनी जिला अध्यक्ष मो. जावेद आलम, मुखिया इफ्तेखार अहमद छोटन व मो. रिजवान, पप्पू पासवान, मो. शाहिन, मो. नुरैन, मो. तबरेज, डॉ. अब्दुस सलाम सहित कई लोगों ने संबोधित किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस