बक्सर । गंगा का जलस्तर बढ़ने का सिलसिला जारी है। मंगलवार को गंगौली पंचायत के श्रीकांत डेरा गांव पानी से पूरी तरह घिर गया है। गांव से बाहर निकलने के सारे रास्ते बंद हो चुके हैं। लोग नाव के सहारे आवागमन करने पर विवश हैं। गांव के कृष्णा यादव, सुरेश कुमार, सुधीर कुमार, विमलेश कुमार, पंकज यादव सहित कई लोगों ने बताया कि बस्ती के चारों तरफ पानी हो जाने से आम जनता के साथ-साथ मवेशियों को भी परेशानियों से गुजरना पड़ रहा है।

वहीं, बड़कागांव से केशोपुर तक गंगा का पानी न सिर्फ बक्सर-कोईलवर तटबंध तक पहुंच गया है। बल्कि, अब मैदानी भाग की ओर भी अग्रसर है। राजापुर पंचायत के पूर्व मुखिया अंगद यादव ने बताया कि गत रात से पानी बढ़ने की रफ्तार तेज हो गई हैं। दूसरी ओर गंगा तट पर बसे गुरुदेव नगर, भिक्षु के डेरा, दादाबाबा के डेरा, श्रीकांत राय के डेरा, बेनीलाल के डेरा, टेकमन के डेरा, लाल ¨सह के डेरा, सुचित के डेरा, बिगु के डेरा, गर्जन पाठक के डेरा, तिलक राय के हाता सहित कई गांवों के लोग गंगा के बढ़ते रौद्र रूप को देख सगे-संबंधियों से संपर्क करने में जुट गए हैं। प्रशासन द्वारा एक दर्जन राहत कैंपों का चयन बाढ़ की स्थिति में आम जनता को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए प्रशासन द्वारा करीब एक दर्जन राहत कैंपों का चयन किया गया है। हालांकि, अभी तक सारे चयनित कैंप सुविधा विहीन हैं। लेकिन, स्थानीय प्रशासन स्थिति को भांपते हुए शीघ्र नामित कैंपों में सारी व्यवस्था मुहैया कराने की बात कह रहा है। तटबंध पर नहीं दिखते होमगार्ड के जवान स्थानीय प्रशासन द्वारा बक्सर-कोइलवर तटबंध की सुरक्षा को लेकर प्रत्येक एक किमी की दूरी पर होमगार्ड के जवानों की तैनाती का दावा किया जा रहा है। मगर वे बड़कागांव से केशोपुर तक कहीं दिखाई नहीं दे रहे हैं। ऐसे में तटबंध की सुरक्षा भगवान भरोसे है। ग्रामीणों का कहना है कि बाढ़ के दौरान अक्सर पड़ोसी जिले के लोग तटबंध क्षतिग्रस्त करने का प्रयास करते हैं। जो नुकसानदेह साबित हो सकता है। अधिकारियों ने लिया जायजा प्रखंड विकास पदाधिकारी सुनील कुमार गौतम ने मंगलवार को दियारा क्षेत्र का दौरा कर गंगा के जलस्तर में हो रही वृद्धि का जायजा लिया। इस दौरान जहां भी समस्या दिखी उसे तत्काल दुरुस्त करने को निर्देशित किए। उन्होंने बताया कि पानी तेजी से बढ़ रहा है। लेकिन, घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है। प्रशासन हर स्थिति से निपटने के लिए मुकम्मल व्यवस्था कर चुका है।

Posted By: Jagran