बक्सर। चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के बीच बुधवार को स्थानीय प्रखंड में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया। पहली बार इतनी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में वैसे मतदाता भी मतदान केन्द्रों पर सीना तान कर वोट करते देखे गए, जो दबंगों के दबाव में अपना वोट नहीं दे पाते थे। प्रखंड विकास पदाधिकारी सह निर्वाची पदाधिकारी अजय कुमार सिंह एवं थानाध्यक्ष सुनील कुमार निर्झर ने बताया कि मतदाताओं ने भयमुक्त वातावरण में अपने मताधिकार का प्रयोग किया। जिला नियंत्रण कक्ष के अनुसार प्रखंड में 65.64 प्रतिशत मतदान हुआ। जिसमें पुरुष मतदाताओं की प्रतिशत 67.24 एवं महिला मतदाताओं की प्रतिशत 64.04 प्रतिशत रहा।

उन्होंने कहा कि मतदान के दौरान अशांति फैलाने की कोशिश करने वाले संभावित लोगों को चिन्हित कर पहले ही थाना बदर व जिला बदर किया जा चुका था। इसके अलावा सुरक्षा की अचूक व्यवस्था की गई थी। सभी मतदान केन्द्रों पर दो सौ गज की परिधि के अंदर निषेधाज्ञा लागू थी। पूरे दिन पुलिस पेट्रोंलिग जारी रही। इस बार का चुनाव कई मामलों में पिछले चुनाव से अलग रहा। सुरक्षा बलों ने संवेदनशील बूथों की परिभाषा ही बदल दी थी और इसी का परिणाम रहा कि मतदाता खुलकर घरों से निकले और निर्भय होकर अपने मताधिकार का प्रयोग किए। पंचायत चुनाव को लेकर पिछले एक माह से विभिन्न स्तर पर चलाए गए जागरूकता अभियान का असर रहा कि मतदान में उदासीन रहने वाली दियारा क्षेत्र की महिलाओं ने भी इस बार वोट देने में बढ़-चढ़ कर सहभागिता सुनिश्चित कराई। पहली बार वोटर बनी मतदाताओं में दिखा उत्साह

पहली बार वोटर बनी नव युवतियां भी मतदान को लेकर काफी उत्साहित दिखाई दी। सिमरी उच्च विद्यालय के मतदान केन्द्र पर अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए महिलाओं के साथ वे घंटों कतार में खड़ी रही। पहली बार वोट देकर घर वापस जा रही एक युवा मतदाता कुमारी लवली ने बताया कि वोट देकर ऐसा लग रहा है कि इस बार पंचायत प्रतिनिधियों को चुनने में हमारी भी सहभागिता शामिल होगी। रिया कुमारी का कहना था कि दियारा क्षेत्र के सर्वांगीण विकास के सपने को लेकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया है।

दियारा के चिह्नित मतदान केंद्रों पर रही पुलिस की पैनी नजर सिमरी प्रखंड के पंचायत चुनाव को जिला प्रशासन ने चुनौती के रूप में लिया था। जिला पदाधिकारी अमन समीर एवं पुलिस अधीक्षक नीरज कुमार सिंह पूरे दिन मतदान केन्द्रों का जायजा लेते रहे। खासकर अतिसंवेदनशील मतदान केन्द्रों पर पुलिस प्रशासन की पैनी नजर रही। प्रशासन के इसी सतर्कता का परिणाम रहा कि कमजोर तबके के मतदाता भी भयमुक्त वातावरण में खुलकर अपने मताधिकार का प्रयोग किए। एसडीपीओ श्री राज ने बताया कि प्रखंड के विभिन्न मतदान केंद्रों पर शांतिपूर्ण और निष्पक्ष तरीके से भय मुक्त वातावरण में मतदान संपन्न हुआ।

Edited By: Jagran