बक्सर । स्थानीय रेलवे स्टेशन का पूछताछ काउंटर इन दिनों लोगों की परेशानी का सबब बन गया है। एक साल बीत जाने के बाद भी पूछताछ काउंटर सुचारू रूप से चालू नहीं हो पाया। दरअसल, मैट्रिक परीक्षार्थियों द्वारा प्रश्न पत्र में आई त्रुटि के चलते तोड़फोड़ के दौरान रेलवे स्टेशन के पूछताछ काउंटर में मौजूद एलईडी स्क्रीन को भी तोड़ दिया गया था। जिसके बाद से लोगों को रेलवे काउंटर में मौजूद कर्मियों से पूछताछ करनी पड़ती है। हालांकि, दुबारा एलईडी स्क्रीन लगा दिया गया है। लेकिन, पटना से ¨लक नहीं कराया गया है। बताया जाता है कि एलईडी स्क्रीन से लोग सीधे पटना से जुड़े हुए थे, जहां से गाड़ियों की वास्तविक स्थिति की जानकारी उन्हें मिलती थी। साथ ही, पूछताछ के लिए धक्का-मुक्की भी नहीं करनी पड़ती थी। लेकिन, एक साल पहले तोड़फोड़ के बाद यह सुविधा बंद हो गई है। जिससे लोगों को ट्रेनों की स्थिति जानने के लिए काफी जद्दोजहद करनी पड़ती है। कभी-कभी तो भीड़-भाड़ के चलते पूछताछ पूरी नहीं हो पाती है और ट्रेन प्लेटफार्म पर आ जाती है। ऐसी सूरत में यात्रियों को दौड़कर ट्रेन पकड़ना खतरे से खाली नहीं होता। एक कर्मी के भरोसे है पूछताछ काउंटर बताया जाता है कि पूछताछ काउंटर पर केवल एक ही कर्मी मौजूद रहते हैं। जो लोगों के सवालों का जवाब देने के साथ-साथ गाड़ियों की स्थिति की जानकारी रखता है। जबकि, रेलवे स्टेशन पर बने इस काउंटर पर प्रतिदिन हजारों लोग पूछताछ के लिए आते हैं। ऐसे में जब कभी भीड़-भाड़ होती है तो कर्मी भी परेशान हो जाता है। यात्रियों ने बताया कि कई बार तो पूछताछ काउंटर पर बैठे व्यक्ति से पूछताछ के दौरान नोकझोंक भी हो जाती है। रेलवे सूत्र बताते हैं कि एलईडी स्क्रीन लगा दिया गया है। लेकिन, ¨लक नहीं मिलने के चलते यह सुविधा शुरू नहीं हो पा रही है। रेलवे अधिकारी भी इस संबंध कुछ बोलने से परहेज कर रहे हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप