बक्सर । समाहरणालय स्थित अपने कार्यालय कक्ष में गुरुवार को जिलाधिकारी राघवेंद्र सिंह ने अंतरजातीय विवाह करने वाले सात जोड़ों के बीच साढ़े छह लाख रुपये के सावधि प्रमाण पत्रों का वितरण किया। यह सावधि प्रमाणपत्र उन्हें अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन अनुदान योजना के अंतर्गत दिया गया। इसके तहत विवाह करने वाले छह जोड़ों को एक-एक लाख तथा एक जोड़े को पचास हजार रुपये का प्रोत्साहन अनुदान दिया गया। एक लाख रुपया प्रोत्साहन अनुदान पाने वालों में अलका कुमारी पति गोविन्द कुमार, प्रीति कुमारी पति मुकेश कुमार, निष्ठा कुमारी पति राजीव शेखर, खुशबू कुमारी पति गोकुल पासवान, पायल जायसवाल पति पिटू कुमार, कुमारी सुप्रिया पति नलीन कुमार कौशल शामिल हैं। वहीं, पूजा कुमारी पति संजय प्रसाद जायसवाल को पचास हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि सावधि प्रमाणपत्र के जरिए दी गई। जाहिर हो समाज कल्याण विभाग द्वारा सितंबर 2015 को जारी अधिसूचना के जरिए समाज में जाति प्रथा को समाप्त करने, दहेज प्रथा को हतोत्साहित करने तथा छुआछूत की भावना को समाप्त करने के लिए अंतरजातीय विवाह करने वाली महिला को प्रोत्साहन स्वरुप एक लाख रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाती है। स्वीकृत अनुदान राशि संबंधित वधू को अधिकतम परिपक्वता राशि देने वाले राष्ट्रीयकृत बैंक में सावधि जमा प्रमाण पत्र के माध्यम से भुगतान किए जाने का प्रावधान है। जिसकी अवरुद्धता अवधि न्यूनतम तीन वर्ष की होती है। जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी कन्हैया कुमार ने बताया कि प्रोत्साहन राशि में क्रमिक बढ़ोतरी की गई है। इसके तहत चार मार्च 2014 से पूर्व पच्चीस हजार रुपये तथा चार मार्च 2014 के बाद एवं 2 सितंबर 2015 के पूर्व तक पचास हजार रुपये दिए जाने का प्रावधान था। परन्तु, 2 सितंबर 2015 के बाद से एक लाख रुपया प्रोत्साहन राशि के रूप में दिए जाने का प्रावधान किया गया है। मौके पर सामाजिक सुरक्षा के निदेशक हरिशंकर सिंह एवं डीपीआरओ कन्हैया कुमार मौजूद थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस