जागरण संवाददाता, बक्सर : सरकार के निर्देश के आलोक में बुधवार को विभिन्न योजनाओं की जांच के लिए अधिकारी पंचायतों में धमके। इस दौरान जिलाधिकारी अमन समीर ने इटाढ़ी प्रखंड अंतर्गत विद्यालय एवं आंगनबाड़ी केंद्रों का निरीक्षण किया तो नल, जल योजना का भी जायजा लिया। डीएम को श्रीनिवास राधिका प्रोजेक्ट बालिका उच्च विद्यालय इटाढ़ी में छात्राओं की उपस्थिति कम मिली तो पठन-पाठन कार्य भी संतोषजनक नहीं मिला। डीएम ने इसके लिए जिला शिक्षा पदाधिकारी एवं वहां के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को निर्देशित किया।

विद्यालय से निकलकर डीएम जब वार्ड नंबर तीन अंतर्गत आंगनबाड़ी केंद्र संख्या पांच में पहुंचे तो वहां उन्हें नामांकन से अधिक बच्चे मिले। केंद्र पर साफ सफाई का अभाव पाया गया, शौचालय एवं पेयजल की व्यवस्था नहीं थी तो केंद्र पर मेन्यू के अनुसार गुणवत्तापूर्ण भोजन भी संतोषजनक नहीं पाया गया। इस पर जिलाधिकारी ने जिला प्रोग्राम पदाधिकारी आइसीडीएस को संबंधित सेविका एवं महिला पर्यवेक्षिका से स्पष्टीकरण मांगने का निर्देश दिया। डीएम ने वार्ड नंबर 10, 11 एवं 12 में नल जल का निरीक्षण किया। इस दौरान कार्यपालक अभियंता लोक स्वास्थ्य प्रमंडल को सभी घरों में जलापूर्ति कराना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। इनसेट., स्वास्थ्य केंद्र पर गैरहाजिर मिले एक चिकित्सक एवं एक कर्मी संस, इटाढ़ी (बक्सर) : स्थानीय प्रखंड विकास पदाधिकारी अमर कुमार ने जिलाधिकारी के निर्देश पीएचसी पर चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मियों की उपस्थिति पंजी की जांच की। जांच के दौरान एक डाक्टर, एक एएनएम एवं एक स्वास्थ्य कर्मी अनुपस्थित पाए गए। इस क्रम में उन्होंने स्वास्थ्य केंद्र पर दवा की स्थिति सहित दवा के रख रखाव, स्टोर रुम, प्रसव रुम, नवजात शिशु केयर की भी जांच की तथा आवश्यक निर्देश दिए। मौके पर पीएचडी सहायक अभियंता वंदना कुमारी, प्रखंड सांख्यिकी पदाधिकारी हेमंत कुमार चौबे, बीइओ बसुरुद्दी अंसारी, मनरेगा पीओ शैलेंद्र कुमार सिंह आदि मौजूद थे। इनसेट. ब्रह्मपुर में बंद मिला अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र संस, ब्रह्मपुर(बक्सर) : जिलाधिकारी के जनता दरबार को लेकर विभागों को दुरुस्त करने की कवायद में प्रखंड विकास पदाधिकारी द्वारा बुधवार को किए गए औचक निरीक्षण के दौरान यहां के प्रखंड परिसर का अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बंद पाया गया। प्रखंड परिसर में स्थित अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बेहतर इलाज के नाम पर वेलनेस सेंटर बना दिए जाने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग की लचर व्यवस्था का आइना दिखा रहा है और नगर पंचायत में स्थित स्वास्थ्य केंद्र का लाभ आम जनता को नहीं मिल रहा है। प्रखंड विकास पदाधिकारी आशीष कुमार मिश्रा बुधवार को 12:30 बजे प्रखंड परिसर के अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण करने पहुंचे तो केंद्र के दरवाजे पर ताला बंद था और एक कर्मचारी वहां नहीं मिले जबकि, अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र पर एक डॉक्टर और तीन कर्मचारी तैनात हैं। प्रखंड प्रमुख उषा देवी तथा दुर्गाचरण मिश्र ने बताया कि ब्रह्मपुर प्रखंड में चिकित्सा व्यवस्था पूरी तरह से पंगु हो गई है और आम जनता को इसका लाभ नहीं मिल रहा है। बीडीओ ने बातया कि दोषी लोगों के विरुद्ध कार्रवाई करने के लिए जिलाधिकारी के पास रिपोर्ट भेजेंगे।

इनसेट.,

बीडीओ ने की पड़री पंचायत में विकासात्मक कार्यों की जांच संस, सिमरी(बक्सर) : प्रखंड विकास पदाधिकारी शशीकांत शर्मा द्वारा पड़री पंचायत में क्रमवार 15 बिदुओं पर जांच की गई। निरीक्षण के क्रम में सर्वप्रथम वे मध्य विद्यालय आशा पड़री पहुंचे तथा वर्ग कक्षों में जाकर छात्र-छात्राओं की शैक्षणिक प्रतिभा का मूल्यांकन किया। इस दौरान बच्चों के हाजिर जवाबी से वे काफी प्रभावित हुए। इसके बाद उन्होंने प्रभारी प्रधानाध्यापक से छात्रवृत्ति, पोशाक एमडीएम, शिक्षक उपस्थिति पंजी, शिक्षा समिति अनुश्रवण पंजी, नामांकित छात्र-छात्राओं की संख्या तथा उनकी सामान्य उपस्थिति, पेयजल एवं शौचालय की अद्यतन जानकारी ली कई आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इसके अलावा पशु शेड, जन वितरण प्रणाली की दुकानों, मनरेगा, हर घर नल का जल, उप स्वास्थ्य केंद्र, धान, गेहूं अधिप्राप्ति केंद्र, ग्रामीण आवास योजना, पेंशन योजना एवं सड़कों की स्थिति सहित निर्धारित बिदुओं पर उन्होंने जांच की। इस दौरान जहां कहीं तनिक भी कमी दिखाई दी तत्काल उसे दुरुस्त करने के लिए संबंधित कार्य एजेंसी को निर्देशित किया।

इनसेट.,

छात्रों की कम उपस्थिति पर बिफरे अंचलाधिकारी

संस, कृष्णाब्रह्म(बक्सर) : सोवा पंचायत में बुधवार को अंचलाधिकारी डुमरांव सुनील कुमार वर्मा ने मध्य विद्यालय नोनियापुरा का निरीक्षण किया। इस दौरान विद्यालय में नामांकित छात्रों की जितनी संख्या है उससे कम छात्र उपस्थित मिले। इस पर वह बिफर पड़े और इस बाबत शिक्षकों से पूछताछ की। बीडीओ को मध्य विद्यालय विद्यालय सोवा में एनजीओ से मिलने वाला छात्रों का खाना घटिया किस्म का पाया गया। वहां भी छात्रों की उपस्थिति कम मिली।

Edited By: Jagran