बक्सर : हम भारत के नागरिक, लोकतंत्र में अपनी पूर्ण आस्था रखते हुए यह शपथ लेते हैं कि हम अपने देश की लोकतांत्रिक परंपराओं की मर्यादा को बनाए रखेंगे तथा स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण निर्वाचन की गरिमा को अक्षुण्ण रखते हुए, निर्भिक होकर धर्म, वर्ग, जाति, समुदाय, भाषा अथवा अन्य किसी भी प्रलोभन से प्रभावित हुए बिना सभी निर्वाचनो में अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। समाहरणालय सभाकक्ष में मंगलवार को राष्ट्रीय मतदाता दिवस के अवसर पर जिलाधिकारी अमन समीर ने यह शपथ दिलाई।

समाहरणालय में जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में राष्ट्रीय मतदाता दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस वर्ष 12वें राष्ट्रीय मतदाता दिवस का थीम निर्वाचन को समावेशी, सुगम एवं सहभागिता पूर्ण बनाना था। इस दौरान डीएम ने इआरओ एवं बीएलओ को निर्वाचन में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए सम्मानित किया। सम्मानित होने वालों में विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र संख्या 202-राजपुर(अजा) से प्रेम कान्त सूर्य, निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी-सह-भूमि सुधार उप समाहर्ता बक्सर, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र संख्या 199-ब्रह्मपुर से राजकुमार श्रीवास्तव, शिक्षक, बीएलओ (जिला स्तर पर उत्कृष्ट निर्वाचन कार्य के लिए), विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र संख्या 200-बक्सर से मालती देवी, आंगनबाड़ी सेविका, बीएलओ (विधानसभा स्तर पर उत्कृष्ट निर्वाचन कार्य के लिए), बिहार विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र संख्या 201-डुमराव से निरंकार कुमार, शिक्षक, बीएलओ (विधानसभा स्तर पर उत्कृष्ट निर्वाचन कार्य हेतु) एवं विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र संख्या 202-राजपुर (अ0जा0) से पिटू कुमार यादव, प्रखंड शिक्षक, बीएलओ (विधानसभा स्तर पर उत्कृष्ट निर्वाचन कार्य के लिए) शामिल हैं। इस दौरान डीडीसी योगेश कुमार सागर ने बताया कि स्वीप के माध्यम से जिला पदाधिकारी के निर्देशन में अहिल्या अभियान के द्वारा महिला वोटरों की संख्या बढ़ाई गई। वहीं, डीएम ने बताया कि विधानसभा चुनाव के पूर्व लिगानुपात 1000 पुरुषों पर 885 था, जो अहिल्या अभियान के बाद 883 हुआ वर्तमान में यह 898 है। अभी भी इसमें और प्रगति करने की संभावना है। सभी बीएलओ को नियमित रूप से अपना कार्य करते रहना चाहिए, जिससे मतदाता सूची में प्रगति रहे तथा साथ ही ट्रांसजेंडर, एचआइवी मरीज, दिव्यांगजन की संख्या नियमानुसार मतदाता सूची में बढ़ाई जा सके। डीएम ने कहा कि किसान गोष्ठी की तर्ज पर सभी बीएलओ को मतदाता गोष्ठी का भी आयोजन करना चाहिए और उसमें चुनाव की निष्पक्षता, सहभागिता एवं उत्तरदायित्व के बारे में बताना चाहिए। मौके पर अपर समाहर्ता-सह-जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी, जिला परिवहन पदाधिकारी, स्थापना उप समाहर्ता, उप निर्वाचन पदाधिकारी एवं अन्य संबंधित पदाधिकारी के साथ-साथ सभाकक्ष में विभिन्न विभागों के कर्मीगण एवं बीएलओ मौजूद रहे।

Edited By: Jagran