बक्सर। नगर थाना के स्टेशन रोड स्थित बसांव मठिया के पास शुक्रवार को बाइक सवार अपराधियों ने ढाई लाख रुपये लूट लिए थे। वारदात को अंजाम देने के बाद सीसी कैमरा की जद से बचने के लिए अपराधियों ने गली का रास्ता इस्तेमाल किया है। जिस रास्ते से होकर अपराधी भागे हैं उस रास्ते में मौजूद सीसी कैमरों को पुलिस खंगालने में जुटी है।

इसकी जानकारी देते थानाध्यक्ष रंजीत कुमार ने बताया कि शुक्रवार की देर शाम लूट की प्राथमिकी दर्ज करने के साथ ही पुलिस की छानबीन शुरू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि अपराधियों को शायद यह बात अच्छी तरह पता थी कि लूट के बाद मुख्य सड़क से होते हुए भागने पर वो विभिन्न स्थानों पर लगे सीसी कैमरों की नजर पर चढ़ सकते हैं। लिहाजा वारदात को अंजाम देने के बाद कैमरों की निगाह से बचने के लिए अपराधियों ने गली के रास्ते भागना बेहतर समझा होगा। इस बीच पुलिस गली के रास्ते में कहां-कहां सीसी कैमरा लगे हुए हैं इनकी खोजबीन करते हुए अपराधियों की पहचान में जुटी है। थानाध्यक्ष ने बताया कि अपराधियों ने कई दिन लूट के शिकार बने युवक की रेकी करने के बाद वारदात को अंजाम दिया होगा। लुटेरों को यह बात अच्छी तरह पता थी कि राजेश कुमार के पास बड़ी रकम है। जिसे देखते हुए उन्होंने घटना को अंजाम दिया है। उम्मीद है कि पुलिस जल्द ही अपराधियों तक पहुंचने में कामयाब हो जाएगी। -कैसे हुई लूट की वारदात

बताते चलें कि शुक्रवार को ई-रिक्शा से कलेक्शन के लिए जा रहे रेडिएंट माइक्रो फाइनांस कंपनी के कर्मचारी राजेश कुमार से बाइक सवार तीन अपराधियों ने हथियार का भय दिखाकर स्टेशन रोड पर मौजूद बसांव मठिया के पास करीब पौने तीन लाख रुपये लूट लिए थे। थाना को दिए अपने बयान में कर्मचारी ने बताया है कि नगर भवन के समीप कंपनी के कार्यालय से कलेक्शन के 2 लाख 59 हजार 824 रुपये लेकर निकले थे और अभी कलेक्शन के लिए नेशनल इंश्योरेंस कार्यालय में जा रहे थे। तभी लाल रंग की अपाची पर सवार तीन अपराधियों ने ई-रिक्शा को ओवरटेक करते हुए आगे बाइक लगा दी और हथियार दिखाते हुए रुपयों से भरा बैग छीन कर ठीक सामने की गली से होते हुए भाग निकले। -सीसी कैमरों की नहीं मिली मदद

कयास लगाया जा रहा है कि शायद अपराधियों को भी इस बात की जानकारी होगी कि हाल ही में नगर थाना के अंदर और बाहर उच्च तकनीक के कई कैमरे लगाए गए हैं। जिनकी मदद से सड़क से होकर गुजरने वाले किसी भी व्यक्ति को सहज ही पहचाना जा सकता है। बावजूद इसके पुलिस अन्य रास्तों पर लगे कैमरों को खंगालने में जुटी है जिससे अपराधियों की पहचान करते हुए उन्हें सलाखों के पीछे पहुंचाया जा सके।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस