बक्सर : स्वास्थ विभाग के जिला स्तरीय टीम के साथ सिविल सर्जन डॉ.जीतेन्द्र नाथ ने बुधवार को डुमरांव अनुमंडलीय अस्पताल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दरम्यान सिवील सर्जन ने बन कर तैयार दीदी का रसोई घर, निर्माणाधीन ऑक्सीजन प्लांट, पैथोलोजी केन्द्र, दवा वितरण केन्द्र आदि का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अनुमंडलीय अस्पताल में ही दिव्यांगता प्रमाणपत्र बनने की सुविधा शुरू होने की जानकारी दी।

इस मौके पर सिविल सर्जन ने कहा कि दीदी का रसोई घर इस माह के आखिरी सप्ताह से शुरू हो जाएगा। इस संबध मे जीविका के जिला समन्वयक को निर्देशित किया गया है। ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण को जल्द चालू करने के बाबत निर्माण एजेंसी स्वास्थ विभाग के आधारभूत संरचना इकाई को पत्र लिखा गया है। साथ ही अस्पताल भवन के जर्जर हो चुके उपरी छज्जा एवं पानी की निकास व्यवस्था दुरूस्त किए जाने को लेकर आधारभूत संरचना इकाई को पत्र भेज कर आग्रह किया गया है। इसके पहले सीएस द्वारा अनुमंडल अस्पताल में पहली बार पीएचसी के प्रबंधको की बैठक आयोजित कर पीएचसी में उपलब्ध साधन संसाधन व्यवस्था के बारे में जानकारी हासिल की। 17 सितम्बर को प्रधानमंत्री के जन्म दिवस के अवसर पर होने वाले बिशेष कोविड टीकाकरण अभियान को सफल बनाए जाने को लेकर की गई तैयारियों की समीक्षा की गइ। समीक्षा के दरम्यान सिवील सर्जन द्वारा चिकित्सको सहित विभिन्न पीएचसी के प्रबंधको के बीचे कम से कम 80 हजार से 1 लाख लोगों के बीच टीका प्रदान करने के लक्ष्य की जानकारी दी गई। इस मौके पर एसीएमओ डॉ.अनिल कुमार भटट्, जिला अस्पताल प्रबंधक संतोष कुमार, डीसीओ शालीग्राम पांडेय के आलावे अनुमंडल क्षेत्र के विभिन्न पीएचसी के प्रबंधक मौजूद थे।अ

स्पताल के 4 चिकित्सक पाए गए अनुपस्थित

सिविल सर्जन के अस्पताल पहुंचने से पहले उपाधीक्षक डॉ.गिरीश कुमार सिंह द्वारा अस्पताल का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दरम्यान ड्यूटी से गायब पाए गए चार चिकित्सकों की हाजिरी काटी।

Edited By: Jagran