आरा। भोजपुर व रोहतास जिले की हत्या में वांटेड रोहित सिंह ने सोमवार को अंतत: कोर्ट में सरेंडर कर दिया। भोजपुर पुलिस के बढ़ते दबाव के बाद वांछित ने रोहतास के बिक्रमगंज कोर्ट में सरेंडर किया। जिसके बाद उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। सरेंडर करने वाला वांछित आरोपी रोहित सिंह भोजपुर के नारायणपुर थाना के नारायणपुर गांव का निवासी है। रोहतास पुलिस की फाइलों में करीब तीन साल से फरार चला आ रहा था। भोजपुर एसपी सुशील कुमार ने पुष्टि करते हुए बताया कि सरेंडर करने वाले वांछित आरोपित को यहां के केसों में रिमांड पर लिया जाएगा। भोजपुर में घटित अंडा दुकानदार की हत्या एवं गोलीबारी के मामले में पुलिस को उसकी तलाश थी। पूर्व से वाहन चोरी, शराब व आ‌र्म्स एक्ट में दागी रहा है। कुल छह मामले दर्ज है।

----

बिक्रमगंज में आरा के दो लोगों की हुई थी हत्या, आया था नाम

बताया जा रहा कि साल 2017 के सितंबर महीने में आरा शहर के आनंदनगर निवासी दो युवकों की हत्या रोहतास के बिक्रमगंज में कर दी गई थी। बिक्रमगंज के तुर्ती गांव के बधार में दोनों युवकों का शव मिला था। जिसके बाद उनकी पहचान हो सकी थी। आनंद नगर निवासी सुनील यादव एवं भोला पांडेय उर्फ विवेक पांडेय के रूप में दोनों की पहचान हुई थी। इस दौरान हत्या से गुस्साए लोगों ने शव के साथ आरा के सपना सिनेमा मोड़ पर आरा-पटना राजमार्ग को जाम कर हंगामा मचाया था। जिसमें रोहित का भी नाम आया था। वह फरार चला आ रहा था।

------

चिकेन पकाने के विवाद में कर दी गई थी अंडा दुकानदार की हत्या

मालूम हो कि 22 फरवरी की शाम भोजपुर जिले के नारायणपुर थाना क्षेत्र के नारायणपुर बाजार पर अंडा दुकानदार सह पूर्व वार्ड सदस्य अनुज पासवान की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या को लेकर आक्रोशित लोगों ने नारायणपुर बाजार के समीप आरा -अरवल मुख्य मार्ग को जाम कर बवाल काटा था। हत्या के इस मामले में उस दिन मुख्य आरोपी इन्द्रमणी सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया था। पकड़ा गया मुख्य आरोपी इन्द्रमणी नारायणपुर निवासी पूर्व पैक्स अध्यक्ष मिथलेश सिंह उर्फ बीडीओ सिंह का पुत्र है। मृतक अंडा दुकानदार की हत्या को लेकर मृतक की पत्नी किरण देवी ने संबंधित थाना में केस दर्ज कराया था। जिसमें नारायणपुर गांव निवासी पूर्व पैक्स अध्यक्ष मिथलेश सिंह उर्फ बीडीओ सिंह के पुत्र इन्द्रमणी सिंह तथा रोहित सिंह के अलावा दो अज्ञात को आरोपी बनाया गया था। रोहित फरार चला आ रहा था। अंडा दुकान पर चिकेन नहीं भूंजे जाने को लेकर विवाद हुआ था। जिसके बाद उसकी हत्या कर दी गई थी। इसके अलावा दस मार्च को होली के दिन भी दहशत फैलाने के लिए गोलीबारी की गई थी। उसमें भी उसे आरोपी बनाया गया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस