आरा। पोकलेन एवं जेसीबी से अवैध बालू निकासी को बंद कराने, मजदूरों से ट्रैक्टर को लोडिग कराने, प्रति ट्रैक्टर 700 रुपये भुगतान करने, बालू के मजदूरों को स्थायी नौकरी, दुर्घटना बीमा, मेडिकल, पीएफ आवास देने, 50 से 70 फीट अवैध रूप से गड्ढा करने वाले कंपनी के विरुद्ध बालू माफियाओं के ऊपर आपराधिक मुकदमा दर्ज करने, 1500 सौ रुपये की जगह 2400 रुपये नजायज बालू चलान का राशि वसूले जाने पर रोक लगाने सहित ग्यारह सूत्रीं मांगों को लेकर आक्रोशित लोग बुधवार को सड़क पर उतर गए। भारतीय क्रांतिवीर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष वैद्य राज कृष्ण पासवान एवं पार्टी समर्थकों के साथ सैकड़ों बालू मजदूर हाथ में बेलचा आदि लेकर बुधवार की सुबह दस बजे ही अखगांव -बचरी गांव के समीप नासरीगंज-सकड्डी स्टेट हाईवे को जाम कर दिया। साथ ही आक्रोशित लोग अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू कर दिए । करीब छह घंटे तक सड़क जाम से यात्रियों को फजीहत का सामना करना पड़ । शादी- विवाह के इस मौसम में कई रिजर्व गाड़ियों पर बैठे लोगों को परेशानी उठानी पड़ी। जाम के दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं एवं बालू मजदूरों द्वारा जिला प्रशासन एवं खनन विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। संध्या चार बजे के बाद सड़क जाम समाप्त हो सका।

---

मांगों को लेकर शाम तक अड़े रहे आंदोलनकारी

जाम की सूचना पाकर थानाध्यक्ष सुदेह कुमार अपने दल बल के साथ जाम स्थल पर पहुंचकर वार्ता शुरू किया । लेकिन, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष वैद्यराज कृष्ण पासवान ने खनन विभाग के पदाधिकारी के बुलाने एवं वार्ता कर समास्याओं को निदान कराये जाने पर अड़े रहे । बाद में खनन पदाधिकारी प्रमोद कुमार जाम स्थल पर पहुंचकर कई बार जाम कर रहे लोगों से वार्ता किया । लेकिन,बात नहीं बनी और सड़क जाम जारी रहा। अंत मे थानाध्यक्ष सुदेह कुमार एवं खनन पदाधिकारी प्रमोद ने संयुक्त रूप वार्ता की । वार्ता के दौरान अध्यक्ष वैद्यराज कृष्ण पासवान एवं बालू मजदूरों को खनन पदाधिकारी ने सोन नदी में बालू खनन में लगे पोकलेन एवं जेसीबी मशीन को हटाने बालू मजदूरों द्वारा ट्रक एवं ट्रैक्टर से बालू लोडिग करने का आश्वासन देकर अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल एवं सड़क जाम को हटवाया ।

--

नियमों को ठेंगा दिखाकर बालू निकासी का आरोप

इधर, पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष वैद्यराज कृष्ण पासवान ने कहा कि बालू माफियाओं द्वारा सरकारी नियमों को ठेंगा दिखाकर 50 से 70 फीट पोकलेन मशीन से बालू का अवैध रूप से खनन कर सोन नदी को समुद्र एवं तालाब जैसा बना दिया गया है। जिससे पानी का जलस्तर काफी नीचे चला गया है। पर्यावरण संकट में है। पोकलेन एवं जेसीबी मशीन से अवैध रूप से बालू खनन किए जाने से मजदूर बेरोजगार हो चुके है । जिससे मजदूरों के परिवार के समक्ष भूखमरी की समस्या उत्पन्न हो गई है । कंपनी, खनन विभाग और बालू माफियाओं के मिली भगत से बालू मजदूरों का सहारा छीन गया है। जिससे आहत होकर 11 सूत्री मांगों को लेकर सड़क जाम कर अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करने को मजबूर हुए । सड़क जाम में प्रमोद कुमार, चंदन कुमार, विश्वकर्मा, राजदेव पासवान, लक्ष्मी चौधरी, उमा पासवान, बंशी पासवान, विनय रविदास, रविन्द्र चौधरी, बबलू रजक, छोटे लाल साव, कन्हैया पासवान सहित आदि लोग शामिल थे ।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस