आरा। मेरा 40 साल का राजनीतिक जीवन है। इस दौरान युवाओं, छात्रों आदि को तो धरना प्रदर्शन करते देखा। लेकिन पहली बार देख रहा हूं कि अपने हक-अधिकार के लिए बड़ी संख्या में देशभर में मां-बहने धरना-प्रदर्शन कर रहीं हैं। इसके लिए ये बधाई के पात्र है। उपरोक्त बातें बिहार के पूर्व मंत्री व हम पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने संविधान बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले स्थानीय अबरपुल में सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ 23 दिन से जारी धरना को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने अपने कार्यकाल में बहुत सारे वादे किए। सरकार विदेश से काला धन लाने, बेरोजगारों को नौकरी देने समेत अन्य वादों को पूरा नहीं कर पाई। नौकरी देने की बात तो दूर, इनके शासन में लगभग साढे पांच करोड़ लोगों की नौकरी चली गई। इन सबसे ध्यान भटकाने के लिए भाजपा सीएए, एनआरसी और एनपीआर लाने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि नरेन्द्र मोदी हमको बहुत सम्मान देते हैं। लेकिन ये बहुत झूठे प्रधानमंत्री हैं। जनता से कई झूठे वादे किये। मंचों पर सीना चौड़ा कर कहते हैं देश में एनआरसी लागू नहीं होगा। वहीं दूसरी ओर गृह मंत्री अमित शाह कहते हैं कि एनआरसी लागू होगा। उन्होंने कहा कि एनआरसी, सीएए और एनपीआर से महज मुसलमान ही नहीं बल्कि एसटी-एसटी व ओबीसी प्रभावित होगे। ये इन सबके लिए हानिकारक है। इसके खिलाफ मुसलमान-हिन्दू सबको एक साथ मिलकर आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि आरएसएस के कार्यकर्ता गांवों में दलितों के बीच भ्रम फैला रहे हैं और उन्हें बरगला रहे हैं कि जब मुसलमानों की जमीन ली जाएगी तो आप लोगों को दिया जाएगा। उन्होंने ट्रंप की यात्रा पर निशाना साधते हुए कहा कि देश जल रहा है और मोदी जी ट्रंप के स्वागत में व्यस्त हैं। श्री मांझी का स्वागत असलम ने, कार्यक्रम की अध्यक्षता आरजू खातून ने और मंच संचालन अमित कुमार बंटी ने किया। इस अवसर पर हम पार्टी के प्रवक्ता दानिश रिजवान, सलमा खातून, मो. आमिर, एकरामुल, मो. मजहर आलम, मो. जाकिर आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस