आरा। राजद विधायक मो. नवाज आलम उर्फ अनवर आलम ने सदर प्रखंड के गंगहर पंचायत के कौशिक दुलारपुर गांव में विगत रात पुलिस द्वारा गांव के बेगुनाह बुजुर्ग, बच्चे और नाबालिग बच्ची को जबरन पकड़ कर मारपीट और साथ ले जाने की कार्रवाई की घोर निदा की है। उन्होंने बताया कि पुलिस उक्त गांव में शराब कारोबारियों के खिलाफ छापेमारी के लिए गई थी। पुलिस पर शराब माफियों द्वारा पथराव और हथियार छीनने की घटना को अंजाम दिया गया था। सदर विधायक ने बेगुनाहों को शीघ्र रिहा करने की मांग की। राजद विधायक सरोज यादव ने कहा कि उक्त गांव के कई घरों की खिड़कियों को तोड़कर कमरे में प्रवेश, आलमीरा और बक्सा तोड़कर आभूषण वगैरह जब्त कर महिलाओं व बच्चियों की बुरी तरह पिटाई की पुलिस कार्रवाई घोर निदनीय है। उन्होंने कहा कि पुलिस निर्दोषों को अविलंब छोड़े। वहीं राजद जिलाध्यक्ष बीरबल यादव ने पुलिस द्वारा नाबालिग और पढ़ने वाले बच्चे-बच्चियों को पकड़ा और घरों में प्रवेश कर बिना महिला पुलिस के महिलाओं को पकड़कर ले गई। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि पुलिस बेगुनाहों को छोड़े अन्यथा राजद आंदोलन करेगा। वहीं प्रमंडल बनाओ मोर्चा के संयोजक कृष्णकांत तिवारी ने कहा कि उक्त गांव में शराब बेचने वाले दो-तीन लोग है। पुलिस और शराब तस्करों की लड़ाई विगत रात में हुई थी। पुलिस निर्दाेष लोगों को प्रताड़ित कर रही है। जिनका इस घटना से कोई लेना-देना नहीं है। घटनास्थल से लौटकर उन्होंने कहा कि पुलिस बदले की भावना से महिलाओं, बच्चों और बूढे़ लोगों के खिलाफ पिटाई समेत घर-घर में प्रवेश कर तोड़-फोड़ करना दुखद है। उनके साथ जांच दल में शामिल अन्य लोगों में अधिवक्ता मदन सिंह, दीपक कुमार, संजय तिवारी और संजय यादव थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस