आरा। मध्य प्रदेश के वाणसागर से छोड़े गए पानी से भोजपुर में संभावित बाढ़ की भयावह स्थिति का खतरा टल गया है। गंगा नदी में मामूली वृद्धि दर्ज की गई है, लेकिन आधी रात के बाद से सोन नदी के जल स्तर में लगातार गिरावट जारी है। मंगलवार को बड़हरा में गंगा नदी का जल स्तर सुबह में 53.79 मीटर दर्ज हुआ था। दोपहर बाद 3 बजे यह जल स्तर मामूली बढ़त के साथ 53.80 मीटर दर्ज हुआ। वहीं दूसरी ओर सोमवार को बड़हरा में गंगा नदी का जल स्तर संध्या समय 53.75 मीटर दर्ज हुआ था। कोईलवर में सोन नदी का जल स्तर सोमवार की रात्रि 9 बजे 53.48 मीटर दर्ज हुआ था। मंगलवार की सुबह घटकर यह जल स्तर 53.08 मीटर हो गया। दोपहर बाद 3 बजे सोन नदी का जल स्तर 52.92 मीटर दर्ज हुआ है। बता दें कि विगत 10 दिनों से गंगा के जल स्तर में उतार चढ़ाव के बीच वाणसागर से पानी छोड़े जाने से जिले में बाढ़ की संभावित विकरालता को लेकर सभी सहमें हुए थे। जिला प्रशासन ने यहां तक कि हाई अलर्ट जारी कर दिया था।

बड़हरा (भोजपुर) से संवाद सूत्र के अनुसार, बड़हरा में मंगलवार के दिन भी गंगा नदी के जलस्तर में 15 सेन्टीमीटर की वृद्धि दर्ज की गई। जिसके बाद जलस्तर 53.85 मीटर पहुंच गयी। जो खतरे के निशान 53.08 मीटर के लेबल से 77 सेन्टीमीटर ऊपर पहुंच गई है। हालांकि समाचार संप्रेषण तक स्थानीय लोगों के अनुसार बाढ़ में वृद्धि थम गई थी। जिसके अब आगे फिलहाल बढ़ने की संभावना नहीं दिखती है। क्योंकि सोन नदी के जलस्तर में भारी कमी दर्ज की गई है। इसके साथ ही वाणसागर डैम से छोड़े गए पानी का असर कोईलवर क्षेत्र में भी समाप्त हो गया है। जिससे फिलहाल सोन में भी वृद्धि की कोई संभावना नहीं दिखती। सोन व गंगा दोनों नदियों में वृद्धि के लगभग थम जाने से दोनों नदियों के तटवर्ती निचले मैदानी इलाके में बसे बड़हरा प्रखंड के विस्तृत क्षेत्र से बाढ़ का खतरा फिलहाल टल गया लगता है। जिसको लेकर क्षेत्र के लोगों ने राहत की सांस ली है। प्रभावित लोगों को इस बात की खुशी है कि बाढ़ अब जल्द खत्म होने वाला है।

शाहपुर (भोजपुर) से संवाद सूत्र के अनुसार, जिलाधिकारी के निर्देश पर अंचलाधिकारी स्वेताभ वर्मा द्वारा प्रखंड के दामोदरपुर पंचायत के कई ऐसे वार्डों का जायजा लिया गया जो फिलहाल बाढ़ के पानी से घिर चुके हैं। साथ ही मुखिया प्रतिनिधि मनोज साह, पूर्व मुखिया प्रतिनिधि रमेश पासवान, उपमुखिया देवनाथ तिवारी सहित कई वार्ड सदस्यों के साथ बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का सर्वे किया गया।

Posted By: Jagran