भोजपुर [जेएनएन]। बिहार के भोजपुर जिले के कृष्णागढ़ थाना अन्तर्गत बलुआं गंगा नदी में डूबकर रविवार की सुबह एक किशोर की मौत हो गई। बाद में महाजाल लगाकर गंगा नदी में डूबे किशोर का शव बरामद किया गया। घटना सुबह करीब छह बजे की है। मृतक रवि कुमार (15वर्ष) कृष्णागढ़ थाना क्षेत्र के बलुआं गांव निवासी नंदजी यादव का पुत्र था।

किशोर की मौत के बाद शादी-विवाह वाले घर में अचानक कोहराम मच गया। मांगलिक गीतों की जगह परिजनों के क्रंदन से माहौल गमगीन हो गया। आसपड़ोस के लोग ढांढस बंधाने में लगे थे। शव का पोस्टमार्टम सदर अस्पताल, आरा में कराया गया। इस दौरान पोस्टमार्टम होने में विलंब होने पर परिजनों ने यहां हंगामा भी मचाया।

शाम में आने वाला था तिलक, सुबह पहर निकली छोटे भाई की अर्थी

बताया जा रहा है कि कृष्णागढ़ थाना क्षेत्र के बलुआं गांव निवासी नंदजी यादव को कुल चार पुत्र थे। चार बेटों में सबसे बड़े सचिन यादव की शादी उदवंतनगर थाना क्षेत्र के कसाप गांव में तय हुई थी। 6 मई को तिलक एवं 12 मई को विवाह की तिथि निर्धारित थी। रविवार की सुबह से ही परिवार के सदस्य तिलक की तैयारी में लगे थे। छोटा भाई रवि यादव बलुआं गंगा नदी से तिलक के दौरान पूजा-पाठ के लिए गंगाजल लाने गया हुआ था। लेकिन होनी को शायद कुछ और मंजूर था। बड़े भाई के सिर शादी का सेहरा सजने से पहले छोटे की अर्थी निकल गई। माहौल गमगीन हो गया।

साथ गए बच्चों ने मचाया शोर, तब जाकर दौड़े ग्रामीण

बताया जा रहा कि बलुआं गांव निवासी नंदजी यादव के घर में बेटे के तिलक को सगे-संबंधी भी आए हुए थे। रवि नामक किशोर धनंजय कुमार समेत दो बच्चों को लेकर गंगा नदी से गंगाजल लाने गया हुआ था। इस दौरान वह नदी में स्नान करने लगा। इसी क्रम में डूबने से उसकी मौत हो गई। बाद में साथ गए बच्चों ने शोर मचाया तब जाकर ग्रामीण दौड़े।

इसके बाद ग्रामीणों की मदद से महाजाल की सहायता से रवि को गहरे पानी से ढ़ूढ़ कर बाहर निकला गया। लेकिन, दुर्भाग्य से रवि की मौत हो चुकी थी। आज ही रवि के बड़े भाई सचीन यादव का तिलक कसाप गांव से आ रहा था। जिसके पूजा-पाठ को लेकर रवि गंगा नदी से गंगाजल लाने चला गया था। रवि के मौत से खुशी का महौल गमगीन महौल मे बदल गया। पुलिस ने मौकेे पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल, आरा भेजा।

बेटे के लौटने की राह देख रही थी मां, अचानक पता चला वह डूब गया

बलुआं गांव निवासी नंदजी यादव की पत्नी कबूतरी देवी रविवार की सुबह गंगा नदी से बेटे की वापसी की राह देख रही थी। लेकिन अचानक पड़ोस के बच्चे खबर लेकर आए की रवि गंगा नदी में डूब गया है। फिर क्या था घर में कोहराम मच गया।

बताया जा रहा कि नंदजी यादव को चार पुत्र थे। जिसमें रवि यादव तीसरे नंबर पर था। बेटे के वियोग में मां कबूतरी देवी का रो-रोकर बुरा हाल था। पिता के अलावा  बड़े भाई सचिन, नीरंजन के आंखों से भी आंसू नहीं रूक रहे थे। रवि आठवीं कक्षा का छात्र था। परिजनों के अनुसार नहाने के दौरान उसके पैर में जाल फंस गया था, जिससे वह डूब गया। 

Posted By: Ravi Ranjan