आरा। जिला के बिहिया थाना क्षेत्र अंतर्गत आरा-बक्सर एनएच-84 पर अमराई नवादा गांव के समीप सोमवार की दोपहर अनियंत्रित कार से कुचलकर एक बच्चे की मौत हो गई। हादसे के बाद आक्रोशित ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा। जिसके बाद चालक कार छोड़ कर भाग निकला। इस दौरान दुर्घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने कार को क्षतिग्रस्त कर दिया। आरा-बक्सर एनएच-84 को अमराई नवादा गांव के समीप करीब तीन घंटे तक जाम कर जमकर हो-हंगामा मचाया। मृत सात वर्षीय बलवीर कुमार बिहिया के अमराई नवादा गांव निवासी परशुराम प्रसाद का पुत्र था। हादसा दोपहर करीब 12.45 के आसपास हुआ। दुर्घटना में मौत के बाद काफी देर अफरातफरी मची रही। पुलिस ने कार को जब्त कर लिया है। चालक के विरुद्ध केस दर्ज किया है। एक को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

--

दादी के साथ खेत से आ रहा था, सड़क पार करने के दौरान हादसा

अमराई नवादा गांव निवासी परशुराम प्रसाद का पुत्र बलवीर कुमार अपनी बुजुर्ग दादी सोना देवी के साथ खेत की ओर गया हुआ था। इस दौरान घर जाने के लिए दादी-पोता सड़क पार कर रहे थे । इस दौरान बक्सर की ओर से तेज गति से आ रही लाल रंग की स्विफ्ट डिजायर कार ने बालक को रौंद दिया। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। हादसे बाद चालक भाग निकला । लेकिन, मौके पर मौजूद भीड़ ने पीछा कर कार को जब्त कर लिया। इस दौरान भीड़ ने कार को क्षतिग्रस्त कर दिया। बाद में शव के साथ आरा-बक्सर हाईवे को जाम कर हंगामा शुरू कर दिया। सड़क पर उतरे ग्रामीण मृतक के आश्रितों को मुआवजा देने और अमराई नवादा गांव के समीप ओवरब्रिज बनाने की मांग कर रहे थे। बाद में सूचना मिलने पर पुलिस भी वहां पहुंच गई। इस दौरान आरा-बक्सर हाईवे पर दोनों तरफ से वाहनों की लंबी कतार लग गई। शाम करीब चार बजे के आसपास बीडीओ प्रफुल्ल चंद प्रकाश द्वारा पारिवारिक लाभ योजना के तहत बीस हजार रुपये सहायता राशि दिए जाने के बाद शव उठ सका।

भाइयों में दूसरे नंबर पर था बलवीर कुमार

बिहिया के अमराई नवादा गांव निवासी परशुराम प्रसाद को कुल चार पुत्र थे। जिसमें बलवीर दूसरे नंबर पर था। बेटे के वियोग में मां लक्ष्मी देवी और दादी सोना देवी का रो-रोकर बुरा हाल था। दोनों सड़क किनारे पड़े बच्चे के शव के पास बिलख रही थीं। हादसे की सूचना मिलने पर गांव की महिलाएं भी काफी अधिक संख्या में रोड पर आ गई थी। तीन और बेटे अंकित, सत्या और अनुज दंपती का सहारा बच गए है। पिता मजदूरी करते हैं।

--

अंडरपास और ओवरब्रिज बनाने की कर रहे थे मांग

सड़क जाम कर रहे ग्रामीणों का कहना था कि अंडरपास और ओवरब्रिज के अभाव में अक्सर हादसा होता रहता है। बलवीर सोमवार की दोपहर अपनी दादी के साथ खेत की ओर आया था। घर जाने के दौरान सड़क पार कर रहा था कि हादसे का शिकार हो गया।आक्रोशित लोगो ने मृतक के शव के साथ एनएच जाम कर दिया था। काफी संख्या में लोग घटना स्थल पर जुटे थे। सड़क पर अंडरपास बनाने तथा मुआवजे की मांग कर रहे थे। अमराई नवादा गांव के ग्रामीणों के अनुसार अंडरपास और ओवरब्रिज के अभाव में अब तक मासूम बच्चों समेत दर्जनभर से अधिक लोगों की जानें जा चुकी है। कई बार इस मांग को अफसरों के सामने रखा गया। बावजूद आज तक इस पर कोई ठोंस पहल नहीं हो सकी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस