आरा/शाहपुर, जागरण टीम। भोजपुर जिले के शाहपुर बाजार स्थित गैस एजेंसी से सटे लाइन होटल के पास रविवार शाहपुर नगर पंचायत के पूर्व मुख्य पार्षद वशिष्ठ प्रसाद उर्फ मंटू सोनार की हत्‍या को लेकर जेल से जमानत पर छूटे अपराधियों पर भी शक की सूई जा रही है। इसके अलावा स्वजन कारा के अंदर से भी षड्ंत्र रचे जाने की संभावना जता रहे हैं।

पुलिस को एक सीसीटीवी फुटेज भी हाथ लगा है। जिसमें दो अपराधी हत्या कर भागते नजर आ रहे हैं। एक अपराधी लाल टोपी और पीले रंग का टी शर्ट पहने हुए हैं।  हत्या के मामले में पुलिस को किसी लंगड़े या झटका मारकर चलने वाले शूटर की सरगर्मी से तलाश है। पुलिस सूत्रों के अनुसार सीसीटीवी फुटेज में एक संदिग्ध है जो लंगड़ा कर या कुछ झटके के साथ चल रहा है। संभवतः उसी ने हत्याकांड में शूटर का काम किया होगा। पुलिस पता लगा रही आखिर कौन है वो लंगड़ा ? कुल दो अपराधी फुटेज में दिख रहे हैं।

मृतक के बड़े भाई छोटन सोनार ने गांव के ही संजय गुप्ता, अजय गुप्ता, गुलशन गुप्ता, अर्जुन धनु एवं निक्की आदि पर पर पूर्व के विवाद को लेकर उसकी गोली मारकर हत्या करने का आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि जेल में बंद एक आरोपित 18 नवंबर को जमानत पर छूटकर बाहर आया था। दो आरोपितों ने बाहर से ही जमानत करा लिया था। एक आरोपित विशाल अभी पकड़ा नहीं गया था। इधर, हत्या के बाद भोजपुर एसपी संजय सिंह, एसडीपीओ जगदीशपुर राजीव चंद्र सिंह एवं बिहिया सर्किल इंस्पेक्टर दयानंद प्रसाद ने शाहपुर पहुंच छानबीन की।

सीसीटीवी में दिखे अपराधी 

एसपी संजय सिंह ने बताया कि अपराधी दो की संख्या में थे। गोली मारने वाला टोपी पहने हुए था। होटल वाले के अनुसार गोली मारने के बाद अपराधी तुरंत भाग निकले। बाहर आते ही पल्सर बाइक पर बैठकर अपने सहयोगी के साथ पूरब दिशा की ओर भाग निकले। पुलिस द्वारा सीसीटीवी फुटेज का विश्लेषण किया जा रहा है। सीसीटीवी का कुछ क्लू मिला है, जिसके आधार पर आगे काम किया जा रहा है।

भूमि विवाद से लेकर आपसी समेत तीन ऐंगल पर जांच

पूर्व मुख्य पार्षद मंटू साेनार उर्फ वशिष्ठ प्रसाद की हत्या की गुत्थी सुलझाने को लेकर कई एंगल से कार्य किया जा रहा है। इसमें राजनीति, भूमि विवाद तथा आपसी रंजिश तीनों ही एंगल से पुलिस देख रही है।  एसपी संजय सिंह ने कहा कि जिस छोटे होटल में गोली मारी गई, इस होटल की जमीन पर भी विवाद है। मृतक के स्वजनों द्वारा हत्या का आरोप विद्यासागर गुप्ता के परिवार पर लगाया जा रहा है। दोनों की रंजिश पिछले चार वर्षों से चली आ रही है।

सितंबर महीने में मारी गई थी दो गोली , बच गई थी जान

सात सितंबर 2022 की रात भोजपुर जिले के शाहपुर थाना क्षेत्र के शाहपुर बाजार स्थित घर के समीप हथियारबंद अपराधियों ने शाहपुर नगर पंचायत के पूर्व मुख्य पार्षद को गोली मार दी थी। काफी करीब से दो गोली मारी गई थी। एक गोली बाएं हाथ एवं दूसरी गोली कंठ के आसपास लगी थी। सदर अस्पताल, आरा में प्राथमिक उपचार के बाद हालत चिंताजनक देखते हुए उन्हें पटना रेफर कर दिया गया था। स्वजनों ने 13 के विरुद्ध प्राथमिकी कराई थी।

दोहरे हत्याकांड के भी आरोपित रहे थे मारे गए मंटू सोनार

विदित हो कि 17 दिसंबर 2019 को शाहपुर बड़ी मठिया के समीप स्थित मिठाई दुकान पर हथियार बंद अपराधियों ने धावा बोलकर दुकानदार ज्योति कुमार गुप्ता उर्फ मांझिल समेत उसके कर्मचारी छोटे महतो को गोलियों से भून दिया था। हत्याकांड को लेकर लगातार दो दिनों तक शाहपुर में बवाल हुआ था। रोड जाम कर आगजनी की गई थी। मृतक ज्योति गुप्ता के छोटे भाई विद्यासागर गुप्ता उर्फ बीडीओ ने इस मामले में कराई गई प्राथमिकी में शाहपुर नगर पंचायत के पूर्व अध्यक्ष और उनके पिता समेत सात लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया था। इसके आधार पर पुलिस ने नगर पंचायत पूर्व अध्यक्ष के पिता कपिल देव सोनार को गिरफ्तार कर लिया था।

तीन माह पूर्व मुख्य पार्षद को टपकाने के लिए दी गई थी सुपारी

19 सितंबर को पुलिस ने शाहपुर नगर पंचायत के पूर्व मुख्य पार्षद वशिष्ठ प्रसाद उर्फ मंटू सोनार को गोली मारे जाने के मामले का राजफाश किया था। पुलिस ने इस मामले में कांड में संलिप्त पांच बदमाशों को गिरफ्तार किया था। इसमें दो शूटर थे। भोजपुर एसपी संजय कुमार सिंह ने प्रेस वार्ता कर बताया था कि योजना पूर्व मुख्य पार्षद की हत्या करने की थी। इसके लिए दो लाख सुपारी दी गई थी। इसके लिए तीन शूटर भी हायर किए गए थे। लेकिन, हमले में गोली लगने के बाद भी पूर्व मुख्य पार्षद बच गए थे।

चुनावी रंजिश एवं पूर्व के शोध-प्रतिशोध को लेकर घटना कारित की गई थी। उस समय इस मामले में शाहपुर के सहजौली निवासी आकाश राय, कोईलवर के काजी मोहल्ला निवासी अन्नू रहमान उर्फ सदरूद्दीन, शाहपुर निवासी रोहित कुमार धानुक, शाहपुर के बनकट निवासी बादी धानुक तथा शाहपुर निवासी रिषभ कुमार वर्मा को गिरफ्तार किया गया है। इसमें रिषभ कुमार वर्मा नामजद है। गिरफ्तार अकाश तथा अन्नू शूटर बताए गए थे। इधर, 13 नवंबर को पुलिस ने बड़हरा के बखोरापुर से एक आरोपित विष्णु सिंह को पकड़ा था।

तीन घंटे तक सड़क जाम, बंद रही दुकानें

शाहपुर: पूर्व मुख्य पार्षद वशिष्ठ प्रसाद की हत्या से आक्रोशित उनके स्वजनों, आसपास के लोगों एवं समर्थकों द्वारा शाहपुर में आरा-बक्सर एनएच 84 को अपराह्न तीन बजे के बाद जाम कर दिया गया, जिसके कारण यातायात घंटो प्रभावित रहा। लोगों के बीच अफरा-तफरी का माहौल कायम रहा। कई दुकानदारों ने अपनी दुकानों को बंद रखा।करीब साढ़े तीन घंटे के जाम के बाद साढ़े छह बजे पुलिस प्रशासन द्वारा जाम को हटाया गया।

वारदात: टाइमलाइन

  • 02 बजे अपराह्न में शाहपुर गैस एजेंसी से सटे लाइन होटल में पूर्व मुख्य पार्षद को मारी गई गोली
  • 02.15 बजे अपराह्न में शाहपुर अस्पताल में इलाज को ले जाया गया, डाक्टर ने आरा रेफर कर दिया
  • 03 बजे सदर अस्पताल लाए जाने पर डाक्टर ने मृत घोषित कर दिया
  • 03.15 बजे एएसपी समेत अन्य अधिकारी सदर अस्पताल पहुंचे
  • 3.20 बजे आक्रोशित लोगों ने बीच रोड पर बेंच रखकर यातायात को अवरुद्ध कर दिया
  • 3.30 बजे भोजपुर एसपी ने शाहपुर पहुंचकर पूरी घटना की जानकारी ली
  • 04.25 बजे शाम में एक्सरे के बाद मृतक का पंचनामा बनाया गया
  • 05:30 बजे शाम में शव का हुआ पोस्टमार्टम, शव शाहपुर ले गए स्वजन
  • 6.30 बजे शाम में आरा-बक्सर एनएच से हटा जाम

Edited By: Vyas Chandra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट