आरा। भोजपुर के हथियार तस्करों का कनेक्शन देसी कट्टा से लेकर एके-47 जैसे प्रतिबंधित व खतरनाक हथियारों से रहा है। अवैध हथियारों की तस्करी के खेल में अरवल से बीएसएफ जवान जयपुकार राय एवं व पटना के बिहटा से सुभाष प्रधान की गिरफ्तारी एक मामूली कड़ी है। यहां के तस्करों के फैले जाल का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि हथियार तस्करों के कनेक्शन की जांच पटना एसटीएफ से लेकर एनआईए तक कर रही है। हाल के दिनों में पटना के अलावा लखीसराय जिले में भी यहां के तस्कर पटना एसटीएफ की मदद से पकड़े जा चुके हैं। हालांकि कई सफेदपोशों का बेनकाब होना बाकी है।

-------

केस स्टडी- 01

19 सितंबर 2020 को पटना के जक्कनपुर थाना के मीठापुर बस स्टैंड के पास छापेमारी में आठ पिस्टल के साथ तीन तस्कर गिरफ्तार किए गए थे। सेना द्वारा इस्तेमाल किए जानेवाले कपड़े जैसे बैग में कंबल और चादर के बीच हथियारों को छुपाकर रखा गया था। आरा के नगर थाना क्षेत्र के बेगमपुर निवासी महेन्द्र सिंह और आरा के नवादा का रहनेवाला अजीत कुमार हथियारों की खेप लेने पहुंचे थे, तभी पकड़े गए थे। तस्करों के पास से 7.65 बोर की आठ पिस्टल और 16 मैगजीन मिले थे।

------

केस स्टडी- 02

14 फरवरी 2021 को लखीसराय जिले में पुलिस को एसटीएफ की मदद से बड़ी सफलता मिली थी। पुलिस ने जब तस्करों को पकड़ा तो उनके पास से 15 पिस्टल और 30 मैगजीन भी बरामद हुआ था। इस दौरान पुलिस ने एक सफारी गाड़ी भी जब्त किया था। गिरफ्तार तीनों हथियार तस्कर पुटपुट गोस्वामी, मुन्ना गुप्ता और शिट्टू कुमार भोजपुर जिला के पीरो थाना क्षेत्र के रहने वाले बताए गए थे।

----

केस स्टडी- 03

7 फरवरी 2019 को पूर्णिया जिले के वायसी थाने की पुलिस ने भारी मात्रा में अत्याधुनिक हथियारों के बैरल, एके-47, कारतूस, राकेट लांचर, ग्रेनेड आदि जब्त किया था। इस संबंध में वायसी थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। उसके बाद मामले की जांच 26 फरवरी 2019 को एनआईए ने अपने हाथ में लिया था। जिसके बाद आरा के मुकेश सिंह एवं संतोष सिंह को पकड़ा था।

---

केस स्टडी- 04

मुंगेर से एके-47 की खरीद-बिक्री की जांच में यहां के पूर्व माननीयों का भी नाम आया था। एनआइए ने इसी मामले में दोबारा केस दर्ज किया था। उस दिन पटना में पटेल नगर स्थित आवास पर पहुंची एनआइए की टीम ने करीब चार घंटे तक यहां सर्च आपरेशन चलाया था और घर का कोना-कोना छान मारा था। भोजपुर जिले में एनआइए ने तीन टीमें बनाकर अलग-अलग जगह पर छापेमारी की थी। आरा के करमन टोला रोड स्थित एक निर्माणाधीन तीन मंजिला मार्केट सह माल की तलाशी ली गई थी। शहर के महाराजा हाता स्थित एक आवास पर भी जांच की गई थी। लेकिन वहां कुछ नहीं मिला था। इसके बाद टीम पूर्व माननीय के रिश्तेदार व तिलाठ पैक्स अध्यक्ष के पीरो व तिलाठ स्थित घरों की जांच को पहुंची थी। तिलाठ गांव स्थित घर से राइफल के दो बट व 315 बोर के 28 कारतूस, अलग-अलग बैंकों के नौ पासबुक व चेकबुक बरामद किए गए थे।

----

हथियार को लेकर कब व कहां हुई कार्रवाई

1 सितंबर 2018

- अजीमाबाद के कमरियांव व गड़हनी के संहगी समेत अलग-अलग जगहों पर पुलिस ने छापेमारी कर 18 हथियार व करीब पौने चार सौ गोलियां बरामद की थी। इनमें 7.65 के 11 पिस्टल, चार देसी कट्टा, एक दोनाली बंदूक, दो अ‌र्द्धनिर्मित पिस्टल, 7.65 बोर की 349, .315 बोर की पांच व .12 बोर की 11 गोली, दस मैगजीन, दो अपाची बाइक व 15 हजार रुपये बरामद किये गए थे।

30 सितंबर 2018

-आरा नवादा थाना के रमना मैदान के समीप पुलिस ने छापेमारी कर अवैध हथियार तस्कर करने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया था। पांच पिस्टल व दस मैगजीन बरामद किया था। दो तस्कर पकड़े गए थे। 1 सितंबर 2020 को

-आरा नवादा थाना के चंदवा सूर्य मंदिर के समीप पुलिस ने छापेमारी कर पुलिस ने छापेमारी कर हथियार तस्करी करने वाले तीन तस्करों को पकड़ा था। पांच पिस्टल, आठ मैगजीन व 24 गोलियां मिली थीं।

---

14 दिसंबर 2020

-भोजपुर के नारायणपुर थाना अन्तर्गत खेड़ी-अहिले के समीप पुलिस ने छापेमारी कर अंतरजिला हथियार तस्कर गिरोह का पर्दाफाश किया था। साथ ही 17 अवैध पिस्तौल व 34 मैगजीन के साथ दो तस्करों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की थी। इस मामले में चरपोखरी थाना के धुर्वडीहां गांव निवासी अनुज कुमार सिंह एवं अजीमाबाद थाना के कमरियां गांव निवासी राज कुमार सिंह की पत्नी अन्नू देवी को गिरफ्तार किया गया था।

--

10 फरवरी 2021

- पटना एसटीएफ की टीम ने सहार के एकवारी मोड़ पर छापेमारी कर देसी कार्बाइन के साथ छोटू कुमार को गिरफ्तार किया था।

Edited By: Jagran