संवाद सूत्र, शाहपुर (भोजपुर) :भाद्र पद के शुक्ल पक्ष चतुर्दर्शी को भगवान विष्णु के अनंत स्वरूप की पूजा अनंत चतुर्दशी के तौर पर मनाया गया। इस अवसर पर श्रद्धालु भक्तों ने उपवास रखकर सामूहिक तौर पर मंदिरों अथवा सार्वजनिक स्थानों पर भगवान अनंत की कथा का श्रवण कर अनंत रूपी धागों को हाथों में बाधकर व्रत को पूरा किया गया। इसके पश्चात प्रसाद को ग्रहण किया गया। वैदिक मान्यताओं के अनुसार अनंत चतुर्दशी के विधिवत कथा श्रवण मात्र से ही कई प्रकार के क्लेशों का नाश होता है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप