आरा। राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी यूनियन की जिला कमेटी की एक बैठक स्थानीय अजय भवन सभागार में सूर्यकांती देवी की अध्यक्षता में आयोजित की गई। जिसकी शुरूआत कार्य प्रतिवेदन पेश करने तथा यूनियन के कार्यो की समीक्षा से की गई। बैठक में आगामी 20 सितंबर को बिहार राज्य आंगनबाड़ी संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन की तैयारी के लिए रणनीति बनाई गई। बैठक में मुख्य वक्ता पद से एटक नेता प्रमोद ¨सह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विगत लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान आंगनबाड़ी कर्मियों से वादा किया था कि वेतन बढ़ाने के लिए आयोग का गठन करेंगे। वे अपना वादा सत्तासीन होते भूल गये। उन्होंने कहा कि देश की लाखों आंगनबाड़ी कर्मी आज न्यूनतम मानदेय के लिए जूझ रही हैं। उन्होंने कहा कि यूनियन सरकारी कर्मचारी का दर्जा देने, पेंशन, सेविकाओं को 18 हजार एवं सहायिकाओं को 12 हजार वेतन देने, निजीकरण का विरोध तथा काम करने का समय 8 घंटा रखने की लड़ाई के लिए संघर्षरत है। बैठक में शामिल यूनियन की महासचिव पूनम देवी ने नीति आयोग के समक्ष मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बयान की तीव्र आलोचना करते हुए कहा कि बिहार सरकार अपनी जवाबदेही से पीछे हट रही है। अन्य वक्ताओं में गीता पांडे, देवंती देवी, अर्चना देवी, कुसुम देवी, कोमल कांति देवी, आशा सिन्हा, रामवंशी देवी, रूमी मिश्रा, शोभा कुमारी, नंद जी पांडे, ललीता देवी, शीला देवी, फरहद बानो, कमला देवी, अंबिया खातुन, बबीता देवी आदि थी।

Posted By: Jagran