जासं,आरा: उम्र के अंतिम पड़ाव पर पहुंचे बुजुर्गो का अनुभव समाज के उत्साही युवाओं को पीछे ले जाने के बजाये समाज के वैज्ञानिक-भौतिक और अध्यात्मिक विकास को गति ही प्रदान करती है। जबकि विकास के नाम पर युवाओं का एक हिस्सा जाने-अनजाने में बुजुर्गो को उपेक्षित भी कर रहा है। बुजुर्गो के सम्मान को अपना समस्त समाज का सम्मान समझकर सामाजिक संगठन 'जन विकास क्रांति' के युवा कार्यकर्ताओं ने 'बाबा-दादी घर' की नींव डाली है। उक्त वृद्ध आश्रम 'बाबा-दादी घर' का उद्घाटन जगदीशपुर प्रखंड के दावां गांव स्थित मुंशी टोला में भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम के बीच की गयी। आश्रम का उद्घाटन पूर्व मंत्री श्री भगवान सिंह कुशवाहा एवं सामाजिक चिंतक तातियाम्पि शाक्य ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुये पूर्व मंत्री श्री कुशवाहा ने कहा कि 'बाबा-दादी घर' बेसहारा बुजुर्गो के लिये वरदान साबित होगा। इस दौरान शास्त्रीय संगीत और नृत्य की भव्य प्रस्तुति भी की गयी। जिसमें वैशाली की ऋचा शर्मा, अमित कुमार, बक्शी विकास, कुमार वधु, राजा-अनिल, सोनम, संजना, शालिनी, अमित, परमानंद प्रेमी, अनुरोग मिश्र, रोहित श्रीवास्तव, बीडी ठाकुर, फुलेन्द्र सिंह, कृष्णा सिंह आदि कलाकारों ने एक से बढ़कर एक कलात्मक प्रदर्शन किये। कार्यक्रम के दौरान वरिष्ठ संगीतज्ञ राम बदन सिंह, बक्शी विकास एवं गायक दुधेश्वर लाल को सम्मानित किया गया। साथ ही सभी कलाकारों को स्मृति चिह्न और अंग वस्त्र भेंट किया गया। मंच संचालन संजीव सिन्हा और मुकेश कुमार सिंह ने किया, जबकि धन्यवाद ज्ञापन हिमराज सिंह ने किया। इस मौके पर राम वचन सिंह, फुलझारो देवी, सुनिल कुमार, सूर्यमुखी देवी, रमेश कुमार, संतोष कुमार, संतराज सिंह, राजा राम सिंह, संजय यादव आदि उपस्थित थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस