भागलपुर [कौशल किशोर मिश्र]। Zilla Parishad President Election Bhagalpur:भागलपुर जिले के पीरपैंती के परशुरामपुर गांव से दियारा तक की पंचायत राजनीति में दो दशक तक दबदबा बनाए रखने वाले नेता डा.शंभु दयाल खेतान ने अंग नगरी की राजनीति में भी किंगमेकर की अपनी साख बनाने में कामयाब रहे। 2016 में तमाम विरोधी धड़ों को चित करते हुए अपने खेमे के अनंत कुमार उर्फ टुनटुन साह को जिला परिषद अध्यक्ष बनाने में कामयाब हुए थे।

दलीय राजनीति की दीवार अपने निजी संबंधों से दरकाने वाले शंभू दयाल ने अपने करीबी टुनटुन को 2021 में दोबारा जिला परिषद अध्यक्ष बनाने में कामयाब रहे। इस बार विरोधी धड़ों की खेमेबंदी को आसानी से तोड़ उनके मोहरे से ही उन्हें चित करते हुए न सिर्फ अध्यक्ष पद पर टुनटुन को आसीन कराया बल्कि उपाध्यक्ष पद भी अपने करीबी जिला परिषद सदस्य प्रणव कुमार यादव पप्पू को बनवाने में भी सफल रहे।

यह उनकी दलीय राजनीति की दीवार में सेंधमारी और निजी संबंधों का प्रभाव ही था कि विरोधी धड़ों के लोग जिला परिषद सदस्यों को जिले से बाहर हिल स्टेशनों में खोजते रहे और वह सिल्क सिटी में ही अपने अभे्द्य किले में रहकर विजयी रणनीति बनाते रहे। राजनीतिक टीकाकार उन्हें वैश्य राजनीति का पैरोकार भी बोलते रहे हैं लेकिन शंभु दयाल खेतान उसे खारिज करते हुए कहते हैं कि दियारा में जब वह मुखिया थे तब भी वह सबको साथ लेकर चले। 

जिले की राजनीति में भी उन्होंने कभी भी किसी जाति-समुदाय बंधन को दरकिनार कर सबको साथ लेकर चला। 70 वर्षीय खेतान मुखिया, जिला परिषद अध्यक्ष भी रह चुके हैं। 2005 के विधानसभा चुनाव में भागलपुर नगर विधानसभा सीट से राजद के प्रत्याशी के रूप में भाग्य आजमा चुके खेतान दूसरी बार जिला परिषद अध्यक्ष चुनाव में रणनीतिक सफलता झटक कर किंगमेकर के रूप में अपनी साख बनाने में भी सफल रहे। इसकी चर्चा आज यहां दिन भर होती रही। 

Edited By: Dilip Kumar Shukla