संवाद सूत्र, नारायणपुर : मधुरापुर गांव में शुक्रवार को आधा घंटा के अंतराल पर पिता और पुत्र की मौत हो गई। इससे परिवार में कोहराम मच गया। शंभू चौधरी शौच के लिए निकले थे कि तालाब में डूबने से उनकी मौत हो गई। सूचना मिलने पर उनका शव तालाब से बाहर निकाला गया और घर पर लाया गया। स्वजन अभी शोक में डूबे ही हुए थे कि आधा घंटे के अंदर ही दिल्ली से स्तब्ध करने वाली खबर आ गई।

शंभू चौधरी का 29 वर्षीय पुत्र दिल्ली के सदर बाजार में मजदूरी में पिता की मौत की खबर सुन स्तब्ध खड़ा था, तभी बगल की तीन मंजिला बिल्डिंग के ऊपर से एक बंदर ने ईंट गिरा दी। ईंट बिल्डिंग के नीचे खड़े श्याम के सिर पर गिरी, जिससे उसकी मौत हो गई। एक साथ पिता और पुत्र की मौत ने परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा।

सूचना मिलने पर भवानीपुर पुलिस मधुरापुर गांव पहुंची और मृतक शंभू के शव का पोस्टमार्टम कराने के लिए अनुमंडल अस्पताल नवगछिया में भेजा। जिला परिषद सदस्य उषा मिश्रा ने मृतक के परिवार से मिलकर सांत्वना दिया। सीओ अजय सरकार से मुआवजा देने की मांग की।

  • पिता की मौत के साथ ही पुत्र की आई खबर
  • - मधुरापुर गांव में शौच के लिए गए शंभू चौधरी तालाब में डूब गए
  • - दिल्ली के सदर बाजार में पुत्र के सिर पर बंदर ने गिरा दी ईंट, मौत

बताया जाता है कि श्याम परिवार का इकलौता व्यक्ति था जो दिल्ली में मजदूरी कर परिवार चला रहा था। ऐसे में अब चौधरी परिवार के समक्ष भरण-पोषण की समस्या उत्पन्न हो गई है। इस घटना ने पूरे परिवार को सदमे में डाल दिया है। आस-पड़ोस का हर कोई इस दुख की घड़ी में आकर सांत्वना दे रहा था। लेकिन दुख भी ऐसी जिसे कहना भी बड़ा मुश्किल हो रहा था। एक तरफ पिता तो दूसरी तरफ पुत्र।

Edited By: Shivam Bajpai