पूर्णिया [राजीव कुमार]।  बंगाल से पकड़ में आया शराब तस्कर रंगीन मिजाज का था। उसकी गिरफ्तारी में उसकी रंगीन मिजाज होना भी कारण बना। शराब तस्कर मुर्शीद एक दो नहीं बल्कि चार बीबीयों का शौहर था। इसके अलावा उसके कई लोगों से अवैध संबंध होने की भी जानकारी सामने आई है। कई महिलाओं से संबंध रहने के कारण पुलिस को शराब तस्कर मुर्शीद के बारे में पल पल जानकारी मिल रही थी। शराब के तस्करी से मुर्शीद ने इतनी अकूत संपत्ति जुटा ली थी की उसके खुद के नाम के 15 बैंक खाते हैं जिसमें वह इस अवैध कारोबार से कमाई गयी रकम को जमा करता था।

इसके अलावा 25 फर्जी बैंक खातों के माध्यम से वह शराब तस्करी में लेन देन का काम करता था। उसने अपने शराब के कारोबार को संरक्षण देने के लिए दालकोला रेलवे स्टेशन के पास बनाई गई नकली शराब फैक्ट्री के पास बंगलादेश से आए 50 रिफ्यूजी परिवारों को बसा रखा था। इस परिवार के लोग ना केवल शराब तस्कर मुर्शीद को शराब तस्करी के लिए संरक्षण प्राप्त करते थे बल्कि उनके नाम पर उसने बैंक में फर्जी खाते भी खोल रखे थे। इसके अलावा इसी परिवार के लोग उसकी नकली शराब फैक्ट्री में मजदूर का भी काम करते थे।

सबसे बड़ी बात जो सामने आई है की शराब तस्करी को बिहार में मुर्शीद ने इस कदर फैला रखा था की उसने इस कारोबार के लिए लाइनर से लेकर, ट्रांसपोर्टर एवं लेखापाल तक बहाल कर रखा था। उसने पुलिस के समक्ष पूछताछ में खुद इस बात को स्वीकार किया कि सूबे के बीस से अधिक जिलों में उसके द्वारा शराब की खेप भेजी जाती थी जिससे हर दिन औसतन उसे तीन से चार लाख की अवैध कमाई होती थी।

शराब की तस्करी में कई सफेदपोश भी हैं शामिल

शराब तस्कर मुर्शीद ने जो जानकारी उपलब्ध कराई है उसके अनुसार कई जिलों के सफेदपोश नेता भी शराब के तस्करी में जुटे हुए हैं। इसमें दो समस्तीपुर एवं एक मुज्जफरपुर के नेता का नाम सामने आया है। इसमें एक सफेदपोश नेता समस्तीपुर के मोहदीनगर से विधानसभा का चुनाव भी लड़ चुके हैं। इन सफेदपोशों का सीधा शराब तस्कर मुर्शीद से कनेक्शन सामने आया है। समस्तीपुर के एक सफेदपोश जगन्नाथराय उर्फ नेताजी को पूर्णिया पुलिस गिरफ्तार कर पहले ही मधुबनी जिले की पुलिस को सौंप चुकी है। एसपी दयाशंकर ने बताया की शराब की तस्करी में समस्तीपुर के मोहदीनगर के जिस नेता का नाम सामने या है वह जवाहर राय है एवं उसके साथ मुज्जफरपुर के मोतीनगर निवासी सीताराम राय की भूमिका भी शराब तस्करी में सामने आई है। वहीं शराब तस्कर ने भी इन्हें अपना सहयोगी बताया है। जिसकी जांच की जा रही है।

कई लड़कियों से मुर्शीद के थे अवैध संबंध

पुलिस जांच में यह भी खुलासा हुआ है की शराब तस्करी में अवैध रूप से हर माह करोड़ों की कमाई ने शराब तस्कर मुर्शीद को अय्याश बना दिया था। उसके कई लड़कियों से अवैध संबंध की बात सामने आई है। इसमें एक महिला पूर्णिया के प्रभात कालोनी तो दूसरी महिला रेलवे में काम करने वाली है। इसके अलावा उसके दालकोला स्थित घर पर भी दो महिलाओं के होने की बात सामने आई है। दालकोला में उसके जो ठिकाने थे उसमें इन लड़कियों के लगातार जाने आने की बात जांच में सामने आई है।

मद्य निषेध विभाग की विशेष टीम करेगी जांच

सूबे में 2016 में शराबबंदी लागू होने के बाद सबसे बड़े शराब तस्कर मुर्शीद को पूर्णिया पुलिस गिरफ्तार करने में सफल रही है। इसके द्वारा सूबे में जिस तरह से शराब तस्करी का नेटवर्क फैलाया गया है उसे ध्वस्त करने के लिए मद्य निषेध विभाग पटना की विशेष टीम पूर्णिया पहुंचकर इस मामले की जांच में जुट गई है। पुलिस जल्द ही इस मामले में शराब तस्कर मुर्शीद को तीन दिनों के रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। इस दौरान मद्य निषेध विभाग की टीम भी मौजूद रहेगी।

बंगाल से पकड़ में आए शराब तस्कर मो. मुर्शीद को पुलिस जल्द ही पूछताछ के लिए तीन दिनों के रिमांड पर लेगी, इसके बाद जो पूछताछ में जानकारी मिलेगी उसके आधार पर जांच की जाएगी। -दयाशंकर, एसपी पूर्णिया

Edited By: Dilip Kumar Shukla