जागरण संवाददाता, भागलपुर। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय (TMBU) के कुलपति प्रो. हनुमान प्रसाद पांडेय बुधवार को अपने कार्यालय से लालबाग पहुंचे। उन्होंने नौ अक्टूबर की रात लूटपाट की शिकार हुई पीजी इतिहास की असिस्टेंट प्रोफेसर डा. राधिका मिश्रा से मुलाकात की। कुलपति डा. मिश्रा के क्वार्टर पहुंचे और उनसे घटना के बारे में जानकारी ली। कुलपति ने बताया कि उन्होंने डा. मिश्रा और लालबाग में रहने वाले अन्य शिक्षकों से कहा है कि उनकी सुरक्षा सर्वोपरि है। जल्द ही लालबाग परिसर में सुरक्षा की मुकम्मल व्यवस्था की जाएगी। डा. मिश्रा ने कुलपति को सारी कहानी बताई।

कुलपति ने लालबाग की घटना को लेकर प्राक्टर डा. रतन मंडल को भी तलब किया था। उन्होंने प्राक्टर से घटना के बारे में जानकारी मांगी थी। इसके साथ उन्होंने प्राक्टर से कहा है कि वे उनके अधिकार क्षेत्र से जुड़ी व्यवस्थाओं को जल्द दुरूस्त करें। इसके साथ ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाएं और पुलिस-प्रशासन से सहयोग मांगे। कुलपति ने कहा कि उन्होंने प्राक्टर को कई मुद्दों पर निर्देशित करते हुए कहा है कि उन्हें किसी तरह की प्रशासनिक लापरवाही नहीं चाहिए। कुलपति ने कहा कि व्यवस्था को दुरूस्त करने को कहा गया है। अन्यथा आगे का निर्णय लिया जाएगा।

  • -लूट की शिकार असिस्टेंट प्रोफेसर से मिलने पहुंचे कुलपति
  • - विश्वविद्यालय के ला एंड आर्डर के मुद्दे पर प्राक्टर हुए तलब
  • - कुलपति ने कहा कि लालबाग की मजबूत होगी सुरक्षा

दरअसल, नौ अक्टूबर को देर रात चार की संख्या में हथियार बंद बदमाश डा. राधिका मिश्रा के क्वार्टर में घुस गए थे। उन लोगों ने डा. मिश्रा को 20 हजार रुपये लूट लिया था। लूट की घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश आसानी से हथियार लहराते हुए भाग निकले थे। घटना में डा. मिश्रा ने विश्वविद्यालय पुलिस चौकी में केस दर्ज कराया था। पुलिस ने इस मामले का पर्दाफाश करते हुए डा. मिश्रा की नौकरानी और उसके एक साथी को पकड़ा। इसमें शामिल अन्य को पकड़ने के लिए पुलिस प्रयास कर रही है।

Edited By: Shivam Bajpai