भागलपुर, जेएनएन। चक्रवाती तूफान एम्फन का प्रभाव अब बहुत कम हो गया है। पूर्वानुमान के अनुसार शुक्रवार से मौसम साफ हो जाएगा। आसमान में आंशिक बादल छाए रहेंगे। इस दौरान पूर्व बिहार के कुछ जिलों में कहीं-कहीं हल्की बूंदाबांदी हो सकती है। इधर, चक्रवाती तूफान का असर बुधवार और गुरुवार को भागलपुर सहित पूर्व बिहार के जमुई, लखीसराय, मुंगेर और बांका जिलों में भी देखा गया। औसतन 18 किलोमीटर की गति से उत्तरी-पूर्वी हवा चली और रुक-रुककर कभी फूहार तो कभी रिमझिम बारिश भी होती रही। इससे अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान में लगातार गिरावट दर्ज की गई। बुधवार को जहां अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश 35.4 और 24 डिग्री दर्ज किया गया था, वहीं गुरुवार को बीएयू में यह 26 और 23 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। बीते दो दिनों में 21.2 मिलीमीटर बारिश भी हुई है।

तेज हवा से नुकसान, बारिश से फायदा

बिहार कृषि विश्वविद्यालय के कृषि वैज्ञानिक डॉ. शंभु प्रसाद ने कहा एम्फन के इस प्रभाव से चली तेज हवा ने उद्यानी फसल आम, लीची और केला को थोड़ा नुकसान पहुंचाया है। वहीं, बारिश से गरमा मूंग, मक्का और सब्जी फसलों को फायदा हुआ है। उन्होंने कहा कि उतनी बारिश नहीं हुई है जिससे खेतों में जलजमाव की स्थिति हो। जिला कृषि पदाधिकारी केके झा ने कहा कि एम्फन से जिले में किसानों को इतना नुकसान नहीं हुआ है कि सर्वे करना पड़े। उन्होंने कहा भी कहा कि तेज हवा ने उद्यानी फसलों को थोड़ा बहुत नुकसान जरूर पहुंचाया है, पर लाभ भी हुआ है।

मौसम पूर्वानुमान

बिहार कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी प्रो. बीरेंद्र कुमार एवं मौसम निदेशालय पटना ने भी शुक्रवार से मौसम साफ होने की बात कही है। विज्ञानियों ने कहा है कि आसमान में आंशिक बादल छाए रहेंगे। पूर्व बिहार के कुछ जिलों में कही-कहीं बूंदाबांदी हो सकती है।

बांका जिले में बारिश के दौरान बौंसी और अमरपुर में पेड़ गिरने से बिजली आपूर्ति ठप हो गई। शहरी क्षेत्र में भी काफी देर तक आपूर्ति बाधित रही। कोसी-सीमांचल के अधिकांश इलाकों में भी यही स्थिति रही। बारिश के कारण आम जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।

 

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस