भागलपुर [जेएनएन]। लंबे समय से प्रतिक्षा करने के बाद शुरु हुई स्वचालित सीढ़ी दो दिन बाद खराब हो गई। खराब होने की वजह कोई तकनीकी समस्या नहीं बल्कि गुटखा थूकने की वजह से हुई।

यात्रियों ने एस्केलेटर के बीच दूरी पान-मसाला थूक दिया था। जिसकी वजह से एक लेन बंद हो गया। बिजली विभाग की टीम को इसे ठीक करने में चार घंटे मशक्कत करना पड़ा। जब एस्केलेटर में लगी मशीन को खोला गया तो उसमें गुटखा की खाली पुडिय़ा, कंकड़ व कचरा मिला। मशीन की सफाई करके फिर से चालू किया गया।

रेलवे के अफसरों ने बताया कि एस्केलेटर की सीढिय़ों के बीच कंकड़ या गुटखा या पान कोई थूक देगा तो मशीन काम करनी बंद कर देगी।

सीसीटीवी से रखी जाएगी नजर

एस्केलेटर से दूसरे प्लेटफॉर्म पर जाने और उतरने वाले यात्रियों पर सीसीटीवी से नजर रखी जाएगी। इसके लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इसके पीछे रेलवे की मंशा यह है कि कोई भी यात्री एक्सेलेटर पर कचरा नहीं फेंके। कैमरे में कचरा फेंकने वालों की शिनाख्त कर उससे जुर्माना या मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021