संवाद सूत्र, सिहेश्वर (मधेपुरा)। थाना क्षेत्र के मल्लिक टोला स्थित एफपीएल टेक्नोलाजिक कंपनी के द्वारा लोगों से लगभग 20 लाख से अधिक रुपया लोन देने के बहाने ठगी कर ली गई है। पीड़ित ने बताया कि कंपनी ने मात्र दो-तीन लोगों के सहारे कई गांव में घूम-घूमकर मीटिंग की। इस दौरान गांव में एक लीडर बना दिया गया। सभी को बताया गया कि जो लोन लेने के इच्छुक हैं वे सबसे पहले पति-पत्नी का एक फोटो के साथ फार्म भर कर देना होगा। लोन लेने के लिए दोनों पति-पत्नी का वन कार्ड के तहत इंश्योरेंस करना पड़ेगा। इसके लिए 2080 रुपया देना पड़ेगा। इसके बाद 24 घंटे में लोन की राशि 52 हजार सभी के खाते में आएगा।

कंपनी ने बताया कि आसान किश्त मात्र 2571 रुपया महीना के हिसाब से जमा करना होगा। यह भी बताया कि इंश्योरेंस हो जाने के बाद अगर किसी एक भी व्यक्ति की मौत हो जाती हैं तो लोन की राशि माफ कर दी जाएगी। गुरुवार को शाम चार बजे तक काफी लोगों से राशि ले ली गई। इसके बाद खाना खाने के बहाने से वो निकल गए और फिर दोबारा नहीं आए। शिव शंकर भगत के भाड़े के मकान में चल रहे कंपनी में सुबह जब कई लोग पहुंचे तो देखा कि दरवाजे पर ताला लटका हुआ था। जब कंपनी के लोगों को फोन किया गया तो किसी के मोबाइल पर फोन नहीं लगा। उसके बाद लोग हंगामा करने लगे।

साहुगढ़ भगवानपुर निवासी अशोक ठाकुर ने बताया कि उनके द्वारा 42 आदमी से 2080 रुपये के हिसाब से वसूली की गई थी, जबकि संजय कुमार के 27 आदमी से, प्रवीण कुमार के 54 आदमी से, शंकरपुर झड़काहा निवासी विलास राम के 25 आदमी से, सिहपुर निवासी किरण देवी के 23 आदमी सहित अन्य हजारों लोगों से रुपये लेकर फरार हो गया। यह भी बताया कि इस काम में तीन लोग एमडी मोहन कुमार, रंजीत कुमार व सूरज कुमार के द्वारा वसूली की गई। वह इस बाबत एसआइ रामेश्वर साफी ने बताया कि इस मामले की अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है। जानकारी मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Shivam Bajpai