जागरण टीम, सहरसा: Sushant Singh Rajput Birth Anniversary: बॉलीवुड में कई हिट फिल्मे दे चुके दिवंगत सुशांत सिंह राजपूत की यादें बिहार के सहरसा जिले से कुछ इस कदर जुड़ी हैं कि लोग कहते हैं कि कल ही तो आया था बॉलीवुड का धोनी। सहरसा में क्रिकेट खेलते हुए उनके वीडियो आज भी लोगों के मोबाइल फोन में है। उनके साथ ली गई सेल्फी लोगों के सोशल मीडिया अकाउंट पर तैर रही है। बिहार का लाल सुशांत सिंह राजपूत की जयंती को लेकर सहरसा वासी भावुक हो उठते हैं। 21 जनवरी 1986 को सुशांत का जन्म हुआ था। 

13 मई 2019 को अंतिम बार सहरसा अपने गांव पहुंचे सुशांत सिंह राजपूत ने कुल देवी की पूजा अर्चना की थी। इसके बाद वे गांव के लड़कों के साथ क्रिकेट खेलने जा पहुंचे। सुशांत सिंह को अपनी आंखों से क्रिकेट खेलता देखने के लिए आसपास के कई गांवों के लोग वहां पहुंच गए। उनका अंदाज बिल्कुल माही की तरह ही था। डाउन टू अर्थ सुशांत देसी अंदाज में क्रिकेट खेल रहे थे। बार-बार वे गेंद को हवा में दूर तक हिट कर रहे थे। गर्मी ज्यादा थी तो पसीना भी आ रहा था लिहाजा वे अपनी टीशर्ट की अस्तीनों को भी ऊपर करते हुए क्रिकेट खेल रहे थे। ये सब यादें लिए सहरसा भावुक हो उठता है।

सहरसा में भइया का घर

सिने स्टार सुशांत सिंह राजपूत सहरसा में भाई नीरज कुमार बबलू (जो अभी बिहार सरकार में मंत्री हैं) और भाभी नूतन सिंह के घर पहुंचे थे। कई सुपर हिट फिल्में दे चुके सुशांत सिंह राजपूत ने कुलदेवी की पूजा की और अपनी मां की मन्नत को पूरा किया। इसके बाद मीडिया और गांव वालों के साथ सेल्फी भी खिंचवाई। उन्होंने उस समय मीडिया को जो बयान दिया था, उसे सुनने पर आंखें नम हो जाती है। 

 'शहर छोटा-बड़ा नहीं होता, सपने पूरे करने की चाहत होनी चाहिए'

सुशांत सिंह राजपूत ने अपने फिल्मी करियर के बारे में बताते हुए कहा था कि शहर छोटा या बड़ा नहीं होता। सपने पूरे करने की चाहत होनी चाहिए। उन्होंने कहा था कि लगन ही सफलता की सबसे बड़ी कुंजी है।

Edited By: Shivam Bajpai