भागलपुर। सृजन मामले में सीबीआइ डीआरडीए में हुए करीब 83 करोड़ की अवैध निकासी की जांच शुरू करने वाली है। जांच के पहले वह अवैध निकासी के सभी बिंदुओं की समीक्षा कर रही है। इस क्रम में डीआरडीए में अवैध निकासी की जांच के लिए डीएम द्वारा गठित चार सदस्यीय टीम को दिल्ली बुलाया गया है। दिल्ली में डीआरडीए की सुनवाई 17 सितंबर को है। एक सितंबर को दिल्ली में दो सदस्यीय टीम से सीबीआइ ने पूरी जानकारी नहीं ली थी। अब सीबीआइ ने प्राथमिकी के सूचक निदेशक डीआरडीए अपूर्व कुमार मधुकर और लेखा तथा वित्त के चार सदस्यों को दिल्ली तलब किया है। यह माना जा रहा है कि जांच टीम अपनी जो रिपोर्ट डीएम को सौंपी थी, उसे लेकर बुलाया गया है। सीबीआइ ने हाल ही में नजारत की भी जांच की है। इसकी जांच में भी सीबीआइ पूरी टीम को तलब करने वाली है। यह संकेत 28 अगस्त को दिल्ली गए अफसरों को सीबीआइ ने दिया था। नजारत मामले में जो कमेटी गठित हुई थी उसमें से तीन सदस्य अब भागलपुर से स्थानांतरित हो चुके हैं। उन्हें दूसरे जिले में सूचना देकर बुलाया जाएगा। सीबीआइ अब तक नजारत के चार, जिला परिषद और कल्याण की दो प्राथमिकी की जांच पूरी कर चुकी है। जिला परिषद की जांच सबौर कैम्प कार्यालय में ही हो गई थी।

Posted By: Jagran