संस,जानकीनगर (पूर्णिया)। बीते 15 जुलाई से लेकर बनमनखी अनुमंडल क्षेत्र में पानी में डूबकर मरने वालों की संख्या आधा दर्जन हो गई है। 15 जुलाई को रामपुर तिलक पंचायत के वार्ड 07 के रहनेवाले आठ वर्षीय दीपक कुमार पिता सुबोध कुमार हा हा धार में नहाने के दौरान डूबकर मर गया। वहीं 18 अगस्त को रामनगर फरसाही मिलिक पंचायत स्थित जीबछपुर गांव के समीप ड्रेनेज में दो वर्षीय राम कुमार हेम्ब्रम की डूबकर मौत हो गई थी।

बताते चलें कि केनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत जुगदी परोडा निवासी सुखलाल हेम्ब्रम अपने सगे संबंधियों से मिलने-जुलने जीबछपुर गांव स्थित संथाल टोला आया हुआ था। खेलने के क्रम में उनके दो वर्षीय पुत्र रामकुमार हेम्ब्रम का पैर ड्रेनेज में फिसल गया और पानी में डूबने से बच्चे की मौत हो गई। इसी महीने की 25 को बनमनखी थाना क्षेत्र के रसाढ़ पंचायत के वार्ड 13 में 13 वर्षीय गौरब कुमार की मौत हो गई थी। बताया जा रहा है कि जेसीबी मशीन द्वारा खोदा गया एक गड्ढा के पानी में गिरने से किशोर की मौत हो गई थी। मृतक विजय मंडल का पुत्र था।

दो सितंबर को करीब 1.30 बजे दिन में लादूगढ के हा हा धार में भैंस धोने के दौरान 21 वर्षीय युवक विकास कुमार ठाकुर पिता वकील ठाकुर की मौत हो गई थी। उक्त पंचायत के वार्ड 09 स्थित नथुनी राय टोला का रहनेवाला मृतक विकास कुमार ठाकुर उक्त धार में भैंस को नहलाने गया था, जहां गहरे पानी में चले जाने के कारण डूबकर उसकी मौत हो गई थी। स्थानीय तैराकों व ग्रामीणों द्वारा शव को ढूंढने का प्रयास विफल होने पर एसडीआरएफ की टीम द्वारा दूसरे दिन बरामद किया गया था। इससे पहले गंगापुर पंचायत के स्कूल टोला के रहनेवाले 62 वर्षीय बाबूजी यादव बांस का पत्ता तोड रहा था। इसी दौरान पैर फिसल जाने के कारण उसकी मौत निकटस्थित पोखर में डूबने से हो गई थी।

सोमवार की दोपहर रामपुर तिलक पंचायत होकर गुजरने वाली हा हा धार में डूबने से सात वर्षीय बालक की मौत हो गई। मृतक इसी पंचायत के वार्ड 11 स्थित मुरहो टोला रामपुर तिलक निवासी प्रमोद कुमार यादव का सबसे छोटा पुत्र रजनीश कुमार था। अंचलाधिकारी अर्जुन कुमार विश्वास ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि लोगों की लापरवाही सबसे बडा कारण है, जिसके चलते बनमनखी अनुमंडल क्षेत्र में डूबकर मरने की घटनाएं हुई हैं। उन्होंने कहा कि बनमनखी में बाद नहीं है ,फिर भी गढ्ढों व धार आदि जगहों पर हुए वर्षा जलजमाव में लोग लापरवाही पूर्वक स्नान आदि करने पहुंच जाते हैं, और अपने बच्चों पर निगरानी नहीं रखते हैं ,जिसके लिए अभिभावक भी दोषी हैं। अंचलाधिकारी ने बताया कि बनमनखी के अलग-अलग हिस्सों में पानी में अबतक आधा दर्जन लोगों की डूबकर मौत हो चुकी है।

 

Edited By: Abhishek Kumar