जागरण संवाददाता, भागलपुर। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय (टीएमबीयू) में स्नातक पार्ट वन की परीक्षा (सत्र : 2019-22) के दौरान दो कालेजों में कदाचार करते सात विद्यार्थियों को निष्कासित किया गया। एसएम कालेज में पांच और बीएन कालेज में दो परीक्षार्थियों का निष्कासन हुआ है। 40 हजार से ज्यादा विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए। परीक्षा के पहले ही दिन केंद्रों पर कोविड नियमों की अनदेखी की गई। केंद्रों पर विद्यार्थियों की संख्या के हिसाब से इंतजाम नाकाफी थे। शारीरिक दूरी के नियमों को लेकर भी कालेज प्रशासन बेपरवाह दिखा।

गेट पर दिखा मास्क, कक्षा पहुंचने से पहले उतारा

परीक्षा केंद्रों पर पहुंचे परीक्षार्थियों में कुछ मुख्य द्वार पर मास्क में दिखे, किंंंतु अंदर प्रवेश करते हुए मास्क को उतारकर पाकेट में रख लिया। बीएन कालेज में की प्राचार्या डा. नीलू कुमारी लगातार विद्यार्थियों को मास्क पहनने को लेकर हिदायत करती दिखीं। बावजूद विद्यार्थियों ने उनकी एक ना सुनी। उनके कक्षा से जाते ही मास्क उतार देते थे।

एसएम कालेज में भी मास्क लगाने के प्रति विद्यार्थी जागरूक नहीं थे। कालेज में परीक्षार्थी बेरोकटोक आसानी से बगैर मास्क आ जा रहे थे। जबकि परीक्षा विभाग ने केंद्राधीक्षक को सख्त निर्देश दिया है कि वे लोग कोविड गाइडलाइन में नरमी ना बरतें। इस संबंध में प्राचार्य डा. रमन सिन्हा ने बताया कि विद्यार्थियों को सख्त निर्देश दिया गया था। गेट के अंदर वे मास्क पहनकर आते थे, किंतु अंदर जाने के बाद वे लोग लापरवाह हो जाते थे।

रोल सीट में तकनीकी गड़बड़ी को लेकर देर से शुरू हुई परीक्षा

मारवाड़ी कालेज परीक्षा केंद्र पर रोल सीट में एक नंबर का उलट फेर था। तकनीकी गड़बड़ी के कारण कुछ विद्यार्थियों का रोल नंबर प्रवेश पत्र से मैच नहीं कर रहा था। इस वजह से कालेज की परीक्षा कुछ देरी से हुई। प्राचार्य डा. केसी झा ने बताया कि गड़बड़ी को दूर कर परीक्षा शुरू हुई थी। विद्यार्थियों को देरी के हिसाब से अतिरिक्त समय दिया गया था।

प्रतिकुलपति प्रो. रमेश कुमार ने जेपी कालेज नारायणपुर, कोसी कालेज खगडिय़ा, मदन अहिल्या महिला कालेज, बनारसी लाल सर्राफ वाणिज्य कालेज नवगछिया केंद्र का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान पीआरओ डा. दीपक कुमार दिनकर, सोनू कुमार आदि मौजूद थे।

Edited By: Dilip Kumar Shukla