जागरण संवाददाता, बांका। School Reopen in Bihar: कोरोना महामारी को लेकर डेढ़ महीने की तालाबंदी के बाद बुधवार को जिला का सभी सरकारी विद्यालय खुल जाएगा। कोरोना लॉकडाउन के कारण जिला का ढाई हजार प्राथमिक, मध्य, माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों में अभी तक पूरी तरह ताला लटका हुआ था। इसके पहले भी महीने भर से आधी और एक तिहाई शिक्षक और कर्मियों की उपस्थिति में विद्यालय संचालित हो रहा था। हालांकि विद्यालय खुलने पर अभी बच्चों की पढ़ाई शुरू नहीं होगी। इस पर पूर्व की तरह पाबंदी होगी। लेकिन शिक्षक और शिक्षकेत्तर कर्मी उपस्थित होकर विद्यालय के लंबित काम को पूरा करेंगे। इस संबंध में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी समग्र शिक्षा निशीथ प्रणीत सिंह ने गृह विभाग की गाइडलाइन के अनुरूप मंगलवार को पत्र जारी कर दिया है। पत्र के मुताबिक शिक्षक सुबह साढ़े नौ से चार बजे तक उपस्थित रहकर लंबित उपयोगिता प्रमाण पत्र का काम निपटाएंगे। सर्व शिक्षा परियोजना से जुड़े खर्च का हिसाब जमा होना है। इसके अलावा खाता में बची ब्याज सहित राशि 26 जून को उनके कार्यालय में जमा करेंगे। ताकि 28 जून तक इसे राज्य कार्यालय को भेजा जा सके।

योजनाओं का लाभ और टीकाकरण को भी देंगे गति

इस पत्र के मुताबिक विद्यालय खुलने के बाद केंद्र प्रायोजित योजनाओं की राशि विमुक्ति और उसके व्यय का भी काम होना है। एक जुलाई से होने वाले इस काम के लिए भी सभी विद्यालयों में तैयारी होगी। साथ ही साथ अभी कोरोना टीकाकरण अभियान चल रहा है। शिक्षकों की समाज संचालन में महती भूमिका है। ऐसे में उनके माध्यम से अभियान को गति दी जाएगी। वे खुद टीका लेने के बाद लोगों को जागरूक कर टीकाकरण का निर्धारित लक्ष्य पूरा कराएंगे। विद्यालय खुलने से बच्चों का भी कई लंबित कार्यालयी काम पूरा होगा। विद्यालयों में उपस्थिति के दौरान शिक्षक और कर्मी कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन करेंगे। मास्क और सैनिटाइजर सभी के लिए अनिवार्य होगा।

गृह विभाग के पत्र के अनुसार सभी सरकारी विद्यालयों का ताला 23 जून से खुल जाएगा। शत प्रतिशत शिक्षक निर्धारित समय के अनुसार उपस्थित होंगे। पढ़ाई का काम अभी नहीं होना है। शिक्षक सरकार की संचालित विभिन्न योजनाओं में सहयोग करेंगे। - निशीथ प्रणीत सिंह, डीपीओ, समग्र शिक्षा

 

Edited By: Dilip Kumar Shukla