भागलपुर [जेएनएन]। प्रमंडलीय आयुक्त वंदना किनी ने स्मार्ट सिटी की एक भी योजना अब तक धरातल पर नहीं उतरने पर नाराजगी जताई है। नगर आयुक्त को सभी योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने का निर्देश दिया। कहा कि योजनाओं का डीपीआर तैयार कर कार्य प्रारंभ कराएं। अब सिर्फ प्रस्ताव से काम नहीं चलेगा। स्मार्ट सिटी घोषित हुए ढाई वर्ष बीतने को है, अब तक एक भी काम नहीं हुआ है। 

आयुक्त स्मार्ट सिटी की निदेशक मंडल की बैठक की अध्यक्षता कर रही थीं। इसके पूर्व पीडीएमसी ने सदस्यों को अपनी भविष्य की योजनाओं से संबंधित प्रजेंटेशन दिखाया। जिसमें दस योजनाओं के विषय में जानकारी दी गई। आयुक्त ने पीडीएमसी के अधिकारियों को फटकार भी लगाई। बैठक में कहा गया कि टेंडर नहीं होने कोई भी प्रोजेक्ट शहर में दिख नहीं रहा है। पीडीएमसी ने बताया कि दस योजनाओं को पूरा करने के लिए छह सौ करोड़ खर्च होंगे। 

कई योजनाएं री-टेंडर में है। पिछले छह माह से कई योजनाओं का टेंडर कराने का प्रयास किया गया लेकिन कोई वेंडर टर्नअप नहीं हुआ। कहा गया कि शहर में 23 किलोमीटर सड़क निर्माण में 308 करोड़ रुपये खर्च होंगे वहीं कमांड एंड कंट्रोल में 130 करोड़ की योजना है। सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट की 34 करोड़ की योजना है तथा सोलर लाइट में 20 करोड़ खर्च होंगे। 

सैंडिस कंपाउंड के सौंदर्यीकरण और विकास में 25 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। मायागंज अस्पताल में आधुनिक इनडोर सहित अन्य कार्य में करीब 12 करोड़ रुपये व्यय होंगे। छह करोड़ से कंट्रोल एंड कमांड का आधुनिक भवन तैयार होगा। कहा कि रिवर फ्रंट और हवाई अड्डे का विकास दूसरे फेज में होगा। 

संभव है कि अगली बैठक में इन दोनों प्रोजेक्ट के लिए डीपीआर प्रस्तुत किया जाएगा। निदेशक मंडल की बैठक के बाद आयुक्त ने देर शाम नगर आयुक्त सहित अन्य के साथ इसके क्रियान्वयन की समीक्षा की। बैठक में डीएम प्रणव कुमार, एसएसपी आशीष भारती और मेयर सीमा साहा सहित पटना से आए अधिकारी भी थे।  

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस