संवाद सहयोगी, जमालपुर (मुंगेर)। रेल इंजन कारखाना जमालपुर के भ्रष्टाचार में लिप्त डिप्टी सीएमएम प्रवीर मजूमदार के मनमानी पूर्ण रवैया की शिकायत शहर के विभिन्न राजनीतिक सामाजिक नेता कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री, रेल मंत्री सहित जीएम पत्राचार करते हुए इनकी बर्खास्तगी की मांग की है।

प्रधानमंत्री सहित रेलवे बोर्ड व महाप्रबंधक को लिखे गए पत्र में राजद के राज्य परिषद सदस्य शिशिर कुमार लालू,भाजपा अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष मु. ताज, पटेल सेवा संघ के अध्यक्ष रामजीवन मंडल, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के श्रमिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष संजय केसरी, जमालपुर रेल निर्माण कारखाना संघर्ष मोर्चा के संयोजक पप्पू यादव ने कहा है कि एशिया का गौरव जमालपुर कारखाना के कार्य संस्कृति को भ्रष्टाचार में लिप्त डिप्टी भंडार वैगन घोटाले के सूत्रधार व सीबीआइ के रडार पर रहने वाले लिपिक धीरज रंजन के साथ मिलकर स्वार्थ की पूर्ति के लिए भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं।

लिपिक धीरज रंजन का मनोबल सातवें आसमान पर है। ऐसे भ्रष्ट पदाधिकारियों पर कार्रवाई नहीं होती है तो आने वाले दिनों में जमालपुर में कभी भी विधि व्यवस्था भंग हो सकती है। इसके जिम्मेदार रेल के वरीय पदाधिकारी होंगे।

भ्रष्ट अधिकारियों से कारखाना को बचाने के लिए मुहिम शुरू

कारखाना के सबसे खास विभाग में से एक है भंडार विभाग, जहां वैगन घोटाले की नींव डाली गई थी। इसके बाद भी विभाग के डिप्टी सीएमएम, क्लर्क व संवेदक सब मिलकर कारखाना को दीमक की तरह खोखला कर रहे हैं। सबकुछ महाप्रबंधक से लेकर मुख्य कारखाना प्रबंधक के संज्ञान में है, बावजूद पदाधिकारी को बचाने में महकमा जुटा हुआ है। ये बातें जमालपुर रेल निर्माण कारखाना संघर्ष मोर्चा के संयोजक सह सपा जिला अध्यक्ष पप्पू यादव ने कही।

कारखाना को बचाने के लिए जुटे मुहिम में शहर के रामचंद्रपुर नया टोला फरीदपुर केशोपुर सदर बाजार दरियापुर आशिकपुर बजरंगबली चौक नयागांव का भ्रमण कर युवाओं से मिल कारखाना को बचाने की गुहार लगाई। उन्होंने कहा कि मोर्चा एक तरफ कारखाना को बचाने की वर्षों से मुहिम चला रहा है, वहीं संवेदक और कुछ रेलकर्मी पदाधिकारी को बचाने में लगे हैं।

तीन दिनों का अल्टीमेटम देते हुए कहा की मजदूरों के हक मे निर्णय नही हुआ तो आंदोलन तेज होगा। एनसीपी के जिलाध्यक्ष जाबिर हुसैन, लोजपा के महासचिव कृष्णा राउत, बसपा नेता रवि कांत झा ने कहा कि लगातार आंदोलन के बावजूद पदाधिकारी बने हुए हैं, इससे साफ है कि खेल में कई चेहरे हैं। मुहिम यात्रा मु. आजम मनोज क्रांति, कुमार प्रभाकर, दिनेश साह,संतोष रावत,मिथिलेश कुमार,सत्यजीत सहित अन्य लोग थे।  

Edited By: Abhishek Kumar