पूर्णिया, जेएनएन। Purnia News : आज पूर्णिया के व्यस्तम चौराहा आरएनसाव चौक पर बुजुर्गों ने घंटों खड़े होकर बे-मास्क रहने वालों को मास्क पहनने की हिदायत दी। इस क्रम में जो लोग बगैर मास्क के सड़कों पर चलते हुए दिख रहे थे उन्हें बुर्जुगों के द्वारा मास्क के साथ फूल भी भेंट किया जा रहा था। यह आयोजन भले प्रतीकात्मक रहा हो लेकिन आम लोगों का समर्थन भारी पैमाने पर मिल रहा था‌। इस अभियान के अगुवाई कर रहे बुर्जुगों ने कहा कि यह नागरिक अभियान केवल आम लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से है। अंततः लोगों को खुद जागरूक होना होगा। उन्होंने कहा कि जब तक लोग वस्तुस्थिति को नहीं समझेंगे तब तक कल्याण नहीं हो सकता है राष्ट्र का, व्यक्ति का।हर व्‍यक्ति का यह धर्म बनता है कि वे अपने कर्त्‍तव्‍य के निष्‍ठावान रहे। कोरोना एक ऐसी वैश्विक संक्रमण है जिससे बचाव के लिए सजग और जागरूक रहने की जरूरत है। तभी हम इसके चेन को बनने से रोक सकते हैं। खुद के साथ अपने परिवार को भी बचा सकते हैं। 

 न बरते लापरवाही, खुद के साथ परिवार को भी बचाएं 

लापरवाही बरतने से खुद की जिंदगी तो तबाह होगी ही साथ में परिवार को भी भारी नुकसान पहुंचाएंगे। कोविड के तेजी से बढ़ते खतरे को देखते हुए लोगों को खुद सावधानी बरतने की जरूरत है। बहुत सारे लोग अभी भी बगैर मास्क के सड़कों पर निकल पड़ते हैं। कोरोना की जो मौजूदा स्थिति है उसमें मास्क पहनना बेहद जरूरी है। फूल देकर लोगों को भूल स्वीकार करवाने की भी सफल कोशिश हुई। आगे भूल से भी बगैर मास्क पहने सड़कों पर नहीं निकलेंगे। 'मास्क इज मस्ट' अभियान का यही उद्देश्य है। इस कार्यक्रम में सामाजिक कार्यकर्ता जगदीश मुन्द्रा, अजय सान्याल, चैताली सान्याल, चन्द्रशेखर मिश्र, संजय बनर्जी, अभिमन्यु कुमार मन्नु सहित कई एक वरिष्ठ नागरिक इस अभियान में शरीक हुए। 

Edited By: Amrendra Tiwari