भागलपुर। भागलपुर जिले में पंचायत सरकार भवन बनकर तैयार है लेकिन इसका उपयोग नहीं हो रहा है। इसका कारण यह है कि पंचायत सरकार भवनों में अब तक उपस्कर (फर्नीचर आदि) की व्यवस्था नहीं हुई है। उपस्कर के लिए सरकार ने जिले को गत वर्ष ही एक करोड़ 30 लाख रुपये आवंटित किया था। इस राशि को संबंधित बीडीओ को उपावंटित भी कर दिया गया। कहलगांव व सुल्तानगंज को पांच लाख रुपये प्रति भवन का चेक भी दिया गया। शर्त यह लगाई गई कि उपस्कर की खरीद के लिए जिला स्तर पर टेंडर होगा। बीडीओ अपने मन से उपस्कर की खरीद नहीं कर सकते थे। पिछले छह माह तक जो पंचायत सरकार भवन बनकर तैयार हुए उन सभी का एकीकृत उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ंफरवरी माह में उधाडीह के कार्यक्रम में हो गया। इसबीच, उपस्कर की खरीद के लिए

टेंडर की प्रक्रिया लगातार चलती रही। अंतिम बार टेंडर के लिए 28 अप्रैल को तिथि निर्धारित की गई थी, जो नहीं हो सकी। अब तो डीडीसी का ट्रांसफर हो गया है। टेंडर की प्रक्रिया फिर से शुरु होगी।

उधर, जिला परिषद के अध्यक्ष अनंत कुमार उर्फ टुनटुन साह ने कहा है कि सृजन घोटाला होने के बाद जिला परिषद के सभी खातों के संचालन पर रोक लगी है। जिला परिषद में पिछले आठ महीने से वित्तीय कार्य नही हो रहा है। अध्यक्ष ने कहा है कि जब किसी तरह के वित्तीय कार्य पर रोक है तो पंचायत सरकार भवन के उपस्कर की खरीद के लिए टेंडर किस तरह हो रहा है। सरकार ने उपस्कर की खरीद के लिए राशि का आवंटन जिला परिषद् को ही किया है। '' सृजन की वजह से जिप की योजनाओं पर काम नहीं हो रहा है तो पंचायत सरकार भवन के उपस्कर की खरीद की प्रक्रिया किसके आदेश से प्रारंभ हुई है। यह जांच का विषय है। डीएम इस मामले की जांच कराएं। ''

अनंत कुमार उर्फ टुनटुन साह, अध्यक्ष जिला परिषद्, भागलपुर।

कहां-कहां बने हैं पंचायत सरकार भवन

चोरहर, नगरह, तेतरी, रंगरा, मुरली, मड़वा, बभनगामा, बंधुजयराम, बाखरपुर पूर्वी, श्रीमतपुर गोपालीचक, मानिकपुर, राजगांव, महेशपुर घनश्यामचक, सन्हौला, बड़ीनाकी, कासिमपुर, गोराडीह, ममलखा, बलुआचक, दीनदयालपुर, पैरडोमनियामाल, भूलनी, धांधी बेलारी, खैरेहिया, मिरहट्टी, भोलसर, लगमा, तिनटंगा करारी व सदानंदपुर बैसा।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran