भागलपुर, जेएनएन। पुलिस की नाक के नीचे साई होटल में चल रहे फड़ और शराब की उपलब्धता खुद बहुत कुछ बयां कर रही है। जब प्रशिक्षु डीएसपी के साथ पुलिस बल होटल में प्रवेश की तब सबकुछ सामान्य था। जुआरी फड़ पर पकड़ लिए गए। होटल संचालक मुन्ना सिंह पुलिस की तगड़ी घेराबंदी में कैसे बच निकला। उसका चेहरे से शायद ही कोई पुलिस वाले वाकिफ ना हों। यह मान भी लिया जाए कि प्रशिक्षु डीएसपी दिवेश तिवारी, विपिन बिहारी और डॉ. गौरव मिश्रा उसके चेहरे से अनजान हों लेकिन पुलिस पदाधिकारियों का शेष अमला इससे कतई अनजान नहीं था। ऐसे में उसका तगड़ी घेराबंदी में बच कर निकल जाना सिर्फ चूक नहीं बल्कि किसी साजिश की चुगली भी करता है। शहर के लोगों को यह बात हजम नहीं हो रही कि मुन्ना बच कर भाग निकला। बल्कि उसे वैसे कतिपय वर्दी वाले निकालने में मदद की जिन्हें वह उपकृत करता था।

डीबीआर से छेड़छाड़ की चर्चा

होटल में लगे सीसी कैमरे और उसके डीबीआर से छेड़छाड़ की बात सामने आ रही है। छापेमारी के वक्त अफरातफरी के बीच होटल संचालक मुन्ना सिंह के बचाव में भी कुछ सफेदपोश सक्रिय हो चुके थे। जिनमें सत्ता में पहुंच रखने वाले दो प्रापर्टी डीलरों की सक्रियता की बात सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि छापेमारी के समय मुन्ना से पुलिसकर्मियों की होने वाली बातचीत का सच सामने ना आ जाए इसलिए डीबीआर से छेड़छाड़ किए जाने की चर्चा है।

होटल से चंद फर्लांग दूरी पर रोज लगती है दो थाने की गाडिय़ां

स्टेशन चौक पर रोज कोतवाली और तातारपुर थाने की गश्ती गाड़ी कई-कई घंटे लगी रहती है। वहां रात में पुलिस पदाधिकारी भी भ्रमणशील रह कुछ देर तफरीह करते हैं। ऐसे में साई होटल में इतना सबकुछ हो रहा था, उनकी निगाह में नहीं हो ऐसा कैसे हो सकता। स्टेशन चौक और आसपास के होटलों और लॉजों की गतिविधियों की जानकारी के लिए समय-समय पर सुरक्षा जांच की जाती रही है। ऐसे में साई होटल में फड़ संचालन और शराब पिलाने की जानकारी नहीं होना लोगों को यूं ही नहीं खटक रहा है।

इधर सिटी एसपी सुधांशु कुमार सरोज पूरे प्रकरण की अलग से जांच कर रहे हैं। मुन्ना को भगाने में पुलिसकर्मियों की भूमिका सामने आने पर शीघ्र ही बड़ी कार्रवाई सामने आ सकती है। फिलहाल जांच चल रही है। मुन्ना भी कायदे से छिपा बैठा है, तकनीकी निगरानी की तेज कवायद करने वाली पुलिस के हाथ अबतक खाली हैं।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021